Home » हिंदी कविता संग्रह » पुरुष पर कविता :- बस वही पुरुष कहलाता है | पुरुष दिवस पर कविता

पुरुष पर कविता :- बस वही पुरुष कहलाता है | पुरुष दिवस पर कविता

by ApratimGroup

Pसमाज में अक्सर महिलाओं के ही गुणगान गाये जाते हैं। जबकि पुरुष समाज का एक ऐसा अंग बन जाते हैं जिनकी सराहना बहुत कम ही की जाती है। पुरुष जो अपना सारा जीवन अपने परिवार के न्योछावर कर देता है। आइये उसी पुरुष की महिमा बताती हुयी कविता पढ़ते हैं, ‘ पुरुष पर कविता ‘-

पुरुष पर कविता

पुरुष पर कविता

घर में सुख वर्षा करने को
परेशानियां स्वयं उठाता
दुनिया की इस भीड़ में भी
खुद की एक पहचान बनाता,
हो तपता मन या भीगा तन
चाहे अंग अंग भरी ठिठुरन
घर परिवार संभाले अपना
किंचित भी नहीं घबराता है,
बस वही पुरुष कहलाता है।

घर के दायित्वों के साथ
जो वाह्य कर्तव्य निभाता है
नित कर्म में रहकर लीन सदा
दर दर की ठोकरें खाता है,
खुद को थामे रखता है वह
कितना भी आहत हो मन
अपनो को ना दुख हो कोई
चट्टान सा जो डट जाता है,
बस वही पुरुष कहलाता है।

जिम्मेदारी का भान जिसे
रिश्तेदारी का मान जिसे
दबा अपनी ख्वाहिशें को
औरों खातिर मुस्काता है,
दिल अपना चाहे टूटा हो
मोती आंखो के छुपाता है
हृदय वेदना पी जाता और
पत्थर दिल कहलाता है,
बस वही पुरुष कहलाता है।

दूजे के घर की बेटी को
निज घर सम्मान दिलाता है
गृह लक्ष्मी बनाकर उसको
अपनी गृहस्थी बसाता है,
पूरी दुनिया से लड़ जाए
पर नारी सम्मान बचाता है
माता-पिता,पत्नी,बच्चों में
सामंजस्य जो बिठाता है,
बस वही पुरुष कहलाता है।

देश की रक्षा खातिर वह
सीमा का प्रहरी बन जाए
बन जाता प्यारा बेटा जब
करती माँ आंचल छाँव भरी,
कर के ऊँचा नाम जगत में
माँ-बाप का गर्व बन जाता है
वंश बेल हरी रखता और
जो घर आंगन महकाता है,
बस वही पुरुष कहलाता है।

पढ़िए :- पिता की याद में बेहतरीन कविता ‘तुमको आवाज लगता हूँ’


शिक्षक पर कवितामेरा नाम हरीश चमोली है और मैं उत्तराखंड के टेहरी गढ़वाल जिले का रहें वाला एक छोटा सा कवि ह्रदयी व्यक्ति हूँ। बचपन से ही मुझे लिखने का शौक है और मैं अपनी सकारात्मक सोच से देश, समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जीवन के किसी पड़ाव पर कभी किसी मंच पर बोलने का मौका मिले तो ये मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी।

‘ पुरुष पर कविता ‘ के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

धन्यवाद।

You may also like

2 comments

Avatar
Harish chamoli April 12, 2020 - 11:20 PM

धन्यवाद भाई जी।

Reply
Avatar
rameh chand sharma (kumaoni - masi village) May 10, 2019 - 3:37 PM

bahut badiya chamoli ji

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More