Home » हिंदी कविता संग्रह » गीत गजल और दोहे » बसंत पंचमी पर दोहे रूपी कविता | Basant Panchami Par Dohe

बसंत पंचमी पर दोहे रूपी कविता | Basant Panchami Par Dohe

बसंत पंचमी पर दोहे रूपी कविता में बसन्त से सम्बन्धित विभिन्न बिम्बों को उभारा गया है । बसन्त ऋतु के आगमन पर जहाँ जन – जीवन में नवीन ऊर्जा का संचार होता है, वहीं प्रकृति का रोम रोम भी हर्षित – सा लगता है । हमारा मन प्रसन्न हो तो हमें बसन्त आनन्द दायक लगता है, किन्तु मन जब दुःखी हो तो बसन्त में खिले फूल भी काँटों की तरह चुभने लगते हैं । वस्तुतः बसन्त का उल्लास हमारे मन की दशा पर निर्भर होता है ।

बसंत पंचमी पर दोहे

बसंत पंचमी पर दोहे

नहीं निराशा के रहे, भाव तनिक भी शेष ।
आ बसन्त ने कर दिया, ऊर्जा का उन्मेष ।।

वासन्ती संगत मिली, मुखर हो उठे मूक ।
मन -वीणा के साथ ही, गूँजी कोयल – कूक ।।

सोई जूही की कली, गई नींद से जाग ।
प्रिय बसन्त आ छेड़ता, निकट निराला राग ।।

मिल जाता है जब हमें, अपने मन का मीत ।
दिशा दिशा में गूँजते, तब बसन्त के गीत ।।

मन के अन्दर है चुभा, अगर दुःखों का शूल ।
अच्छे तब लगते नहीं, ऋतु बसन्त के फूल ।।

आया है ऋतुराज ले, फूलों वाला शाल ।
देख प्रेम भू के हुए, लाल टेसुए गाल ।।

पतझर अब भगता फिरे, आया देख बसन्त ।
टिक पाते कब दुष्ट हैं, जब सम्मुख हो सन्त ।।

 ( Basant Panchami Par Dohe ) “ बसंत पंचमी पर दोहे रूपी कविता ” आपको कैसी लगी ? अपने विचार कमेंट बॉक्स के जरिये हम तक अवश्य पहुंचाएं। ऐसी ही कविताएँ पढ़ने के लिए बने रहिये अप्रतिम ब्लॉग के साथ।

पढ़िए बसंत को समर्पित यह बेहतरीन रचनाएं :-

धन्यवाद।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More