Home » हिंदी कविता संग्रह » गीत गजल और दोहे » नारी सशक्तीकरण पर दोहे | Nari Sashaktikaran Par Dohe On Women’s Day

नारी सशक्तीकरण पर दोहे | Nari Sashaktikaran Par Dohe On Women’s Day

नारी सशक्तीकरण पर दोहे

” नारी सशक्तीकरण पर दोहे ” में बताया गया है कि  महिलाओं को पुरुषों के समान अधिकार प्राप्त करने के लिए दूसरों के समर्थन की आशा छोड़कर स्वयं में आत्मविश्वास उत्पन्न करना चाहिए । अपनी आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए महिलाओं को सभी प्रकार के शोषण , उत्पीड़न और पुरुष वर्चस्ववादी सोच  का विरोध करना चाहिए । महिलाओं के सामाजिक, राजनैतिक और आर्थिक  अधिकारों का सभी लोगों  को सम्मान करना चाहिए । शासन और समाज दोनों को महिलाओं को  समान अवसरों की उपलब्धता में सकारात्मक भूमिका निभाना चाहिए ।

नारी सशक्तीकरण पर दोहे

नारी का व्यक्तित्व हो, नारी के अधिकार ।
नारी के भी स्वप्न का, हो अपना संसार ।।

क्यों करती हक के लिए, हाथ जोड़ फरियाद ।
नारी तू भी है मनुज, पूर्णतया आजाद ।।

समय न कर बर्बाद अब, और न बगलें झाँक ।
बढ़ नारी नव – राह पर, अपनी ताकत आँक ।।

नारी अब तो फूँककर, आजादी का शंख ।
छू भी ले आकाश को, फैलाकर निज पंख ।।

नारी मत तू और से, खुद को कमतर आँक ।
तेरे कदमों से रहा, कल का सूरज झाँक ।।

अब अबला की सोच से, होकर पूर्ण विरक्त ।
अपने निर्णय आप ले, नारी तभी सशक्त ।।

केवल शासन का नहीं, अपना भी कर्त्तव्य ।
नारी का जीवन करें, उचित मान दे भव्य ।।

” नारी सशक्तीकरण पर दोहे ” आपको कैसे लगे? अपने विचार हम तक कमेंट बॉक्स के माध्यम से जरूर पहुंचाएं।

पढ़िए महिला दिवस को समर्पित अप्रतिम ब्लॉग की ये बेहतरीन रचनाएं :-

धन्यवाद।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More