Home » हिंदी कविता संग्रह » ज्ञान की कविता :- मूर्खों का अनुसरण | Gyan Ki Hindi Kavita

ज्ञान की कविता :- मूर्खों का अनुसरण | Gyan Ki Hindi Kavita

by Praveen

आप पढ़ रहे हैं ज्ञान की कविता “मूर्खों का अनुसरण” :-

ज्ञान की कविता

ज्ञान की कविता

भोलेपन सा जीना जीवन
और मूर्ख बने रहना तुम,
कल्याण छिपा है इसमें तेरा
और मूक बने रहना तुम।

जितनी मस्ती गढ़ी मूर्खता में
उतनी न मिलेगी विद्वता में,
ज्ञानी-ध्यानी की बड़ी गलतियां
सर्वव्याप्त है कपटता में।

दंगे फ़साद हुए अब तक जो
बुद्धिमानों के कर्म कण है,
भाषा मज़हब का ज्ञान नहीं
परोपकार मूर्खो के आभूषण है।

कलयुग के सारे बाशिंदे आज
मूर्खों के भोलेपन के कायल है,
बुद्धिमानों के “भोलेपन” से या
धोखाधड़ी से घायल है।

लाख टके की बात बतादुं
आक़िल बदनाम कर देता है,
मूर्ख भले ही ज्ञानी ना हो
झुक कर प्रणाम कर लेता है।

पढ़िए:-  पंचतंत्र की कहानियों से “बेवक़ूफ़ गधे की कहानी”


प्रवीण

मेरा नाम प्रवीण हैं। मैं हैदराबाद में रहता हूँ। मुझे बचपन से ही लिखने का शौक है ,मैं अपनी माँ की याद में अक्सर कुछ ना कुछ लिखता रहता हूँ ,मैं चाहूंगा कि मेरी रचनाएं सभी पाठकों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनें।

‘ ज्ञान की कविता ’ के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More