Home » हिंदी कविता संग्रह » प्रेरणादायक कविताएँ » स्वच्छ भारत अभियान पर कविता :- भारत को स्वच्छ बनाना है

स्वच्छ भारत अभियान पर कविता :- भारत को स्वच्छ बनाना है

by Sandeep Kumar Singh

स्वच्छ भारत अभियान के बारे में कौन नहीं जानता। 2 अक्टूबर 2014 को यह अभियान महात्मा गाँधी के जन्म दिवस पर आरंभ किया गया था। इसका उद्देश्य भारत को स्वच्छ और सुन्दर बनाना है। इस अभियान के तहत सब लोगों तक यह्ज सन्देश पहुँचाया जाता है कि अपने आस-पास सफाई रखें और इस तरह देश को सुन्दर और गंदगी मुक्त बनाने में सहयोग दें। इसी दिशा में खुले में सौच मुक्त भारत बनाने का सपना भी है। इन्हीं उद्देश्यों को प्रोत्साहित करने के लिए हम आपके लिए लाये हैं :- स्वच्छ भारत अभियान पर कविता ।

स्वच्छ भारत अभियान पर कविता

स्वच्छ भारत अभियान पर कविता

उठा लो झाड़ू, उठा लो पोंचा
पहुँचो जहाँ कोई भी न पहुंचा
कोई जगह न रहने पाए
हर जगह को हम चमकाएं,
सपना यही है बस अपना
स्वच्छता को अपनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

सफाई का जो रखें ध्यान
बिमारियों से बचती जान
ख्वाब से न कोई आगे बढ़ता
बस कर्मों से बनता महान,
इधर उधर न फैंक के कूड़ा
कूड़ेदान में हमें पहुँचाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

न फैंके नदियों में कूड़ा
न प्लास्टिक का उपयोग करें
कुदरत को नुक्सान न हो
ऐसी चीजों का उपभोग करें,
वातावरण को भी तो हमको
प्रदुषण मुक्त बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

आस-पास जो स्वच्छता होगी
मन भी तब ही पावन होगा
खुशियों की बारिश से हरदम
भरा हुआ हर आँगन होगा,
यही सन्देश तो जन-जन तक
अब हमको पहुँचाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

जिम्मेदार है हमको बनना
और औरों को बनाना है
देश के गर्व को अब हमको
हर कोशिश से आगे बढ़ाना है,
सबसे सुन्दर देश है मेरा
पूरे विश्व को ये दिखाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

पढ़िए :- हिंदी हैं हम वतन ये हमारा हिंदुस्तान है कविता

इस स्वच्छ भारत अभियान पर कविता के बारे में अपने विचार हमारे साथ जरूर साझा करें।

पढ़िए भारत को स्वच्छ बनाने के लिए प्रेरित करती ये रचनाएं :-

धन्यवाद।

You may also like

21 comments

Avatar
Kanika January 28, 2021 - 11:03 PM

Good poem
Love it

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh January 31, 2021 - 9:00 PM

Thank yo Kanika ji….

Reply
Avatar
Shambhavi Rani July 30, 2020 - 8:46 AM

Thanks for this beautiful poetry.. ✍️ I appreciate ur talent.. Keep it up.. ????

Reply
Avatar
Khushi pal September 30, 2019 - 12:52 PM

Thanks for the poem I got first price in this poem

Reply
Avatar
Rishabh Sharma September 11, 2019 - 11:52 PM

Best poem

Reply
Avatar
Shivangi sharma September 28, 2018 - 3:10 PM

Good poem

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 28, 2018 - 10:25 PM

Thanks Shivangi Sharma ji…..

Reply
Avatar
kevin September 13, 2018 - 10:54 PM

apne bhut shundar likha hai

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 16, 2018 - 11:31 AM

धन्यवाद केविन जी।

Reply
Avatar
Donna Shree September 9, 2018 - 8:21 AM

Swachta ke upar di gyi Kavita mujhe bahut achi Lagi aur prerirt Karti hai .

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 10, 2018 - 12:50 PM

धन्यवाद Donna Shree….

Reply
Avatar
ashishrai February 27, 2018 - 1:40 AM

स्वच्छ भारत अभियान के बारे में कौन नहीं जानता। 2 अक्टूबर 2004 को यह अभियान महात्मा गाँधी के जन्म दिवस पर आरंभ किया गया था। इसका उद्देश्य भारत को स्वच्छ और सुन्दर बनाना है। isme aapko btana chahta hoo ki ye abhiyan 2004 ko nhi balki 2oct.2014 ko prarnbh kiya gaya shayad bhool vas 2004 likha gaya h ise apdet jarur kijiyega.

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh February 27, 2018 - 9:05 PM

धन्यवाद ashishrai जी, हमने अपनी गलती में सुधार कर लिया है।

Reply
Avatar
vibha rani Shrivastava February 20, 2018 - 7:40 PM

आपकी लिखी रचना पांच लिंकों का आनन्द में शनिवार 24 फरवरी 2018 को लिंक की जाएगी ….
http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ….धन्यवाद!

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh February 24, 2018 - 1:52 PM

धन्यवाद विभा जी।

Reply
Avatar
Khushbu Khatri October 6, 2017 - 4:32 PM

संदीप कुमार जी, पहले तो आपको ढेर सारी शुभकामनाएं कि भगवान ने आपको अदभुत लेखन कला का उपहार दिया हैं, और यही आशा हे की आप इसी तरह सुंदर एवम पसंशनीय कविताएँ लिखते रहें

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh October 6, 2017 - 5:41 PM

धन्यवाद खुशबू खत्री जी। बस आप जैसे पाठकों का साथ बना रहे तो कलम अपने आप चलने लगती है। बहुत-बहुत धन्यवाद।

Reply
Avatar
surendra Singh September 26, 2017 - 9:49 PM

Aapke dwara likhi gayi bate or jo bhi mene padha bahut hi achi h

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 27, 2017 - 11:26 AM

सराहना के लिए धन्यवाद Surendra Singh जी।

Reply
Avatar
गौतम रावत September 26, 2017 - 9:30 AM

सून्दर अभिव्यक्ति

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 26, 2017 - 10:25 AM

धन्यवाद गौतम रावत जी।

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More