निश्चित ही सफलता मिल जाएगी :- दृढ़ संकल्प और प्रयास पर कविता

सफलता एक ऐसा शब्द जो सिर्फ शब्द नहीं किसी कि चाहत और किसी का सपना होता है। पर इसकी राह आसान नहीं होती। सफलता प्राप्त करने के लिए इन राहों को दृढ़ संकल्प लेकर पार करना पड़ता है। आइये पढ़ते हैं दृढ़ संकल्प पर कविता :-‘ निश्चित ही सफलता मिल जाएगी ‘

निश्चित ही सफलता मिल जाएगी

निश्चित ही सफलता मिल जाएगी

मत करना मन विचलित अपना
देर अगर जो हो जाए
ऐसा कुछ भी नहीं है जग में
जो न तुमसे हो पाए,
ज्ञान अगर हो लक्ष्य का अपने
दृढ़ संकल्प का भान रहे
निश्चित ही सफलता मिल जाएगी
तुम खड़े जो सीना तान रहे।

राह नहीं आसान है ये
मुश्किल रस्ते में आएगी
किस्मत पे भरोसा मत करना
ये राह तुम्हें भटकाएगी,
मत हारना हिम्मत इनसे तुम
चाहे जितनी घमासान रहे
निश्चित ही सफलता मिल जायेगी
तुम खड़े जो सीना तान रहे।

जो कमी कोई रह जाती है
तो उसका तुम अभ्यास करो
जो गिरते हो तुम एक दफा
तो उठकर फिर प्रयास करो,
लगे रहो तुम कर्म में अपने
जब तक इस तन में प्राण रहे
निश्चित ही सफलता मिल जायेगी
तुम खड़े जो सीना तान रहे।

गिरने में वक़्त नहीं लगता
लगता है नाम कमाने में
खुद ही चलना पड़ता है
न बनता है साथी कोई ज़माने में,
सच्चाई की राह जो चलते
समाज में उसकी शान रहे
निश्चित ही सफलता मिल जायेगी
तुम खड़े जो सीना तान रहे।

कुछ भी करना तुम जीवन में
मगर कभी न वो काम करना
हो जाए जिससे बदनामी
और जीना भी लगे मरना,
इस तरह से रहना तुम कि
बना तुम्हारा सम्मान रहे
निश्चित ही सफलता मिल जाएगी
तुम खड़े जो सीना तान रहे। 

यह कविता आपको कैसी लगी ? इस कविता के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

पढ़िए इस पोस्ट से सम्बंधित और भी रचनाएँ :-

धन्यवाद।

qureka lite quiz

15 Comments

  1. Avatar Trupti thakkar
  2. Avatar अमित सिंह
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  3. Avatar अमीता शर्मा
  4. Avatar अमीता शर्मा
  5. Avatar Yashu Jaan
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  6. Avatar Kamlesh kushwaha
  7. Avatar सीमा रानी
  8. Avatar poonam
  9. Avatar दिगंबर

Add Comment