Home » हिंदी कविता संग्रह » रिश्तों पर कविताएँ » पिता की याद में कविता :- तुमको आवाज़ लगाता हूँ | Pita Ki Yaad Mein Kavita

पिता की याद में कविता :- तुमको आवाज़ लगाता हूँ | Pita Ki Yaad Mein Kavita

by ApratimGroup

एक पिता की कीमत हमें अक्सर उनके जाने के बाद ही पता लगती है। मगर तब कुछ बचता है तो बस यादें। उन यादों के सहारे ही हम उनको अपने जीवन में देखते हैं। ये दिल उनको आवाज लगाता है लेकिन वो लौट कर कहाँ आते हैं। ऐसी ही भावनाओं को प्रस्तुत कर रही है संजय शर्मा जी द्वारा छत्तीसगढ़ से भेजी गयी पिता की याद में कविता :-

पिता की याद में कविता

 

पिता की याद में कविता

ख़्वाहिशों को लगते पंख
सपनों की वो ऊँची उड़ान,
ऊँगली पकड़ जो चलना सिखाया,
हर वो लम्हा खुद को याद दिलाता हूँ 
आज फिर तुमको आवाज़ लगाता हूँ।

ना आँधियों का डर
ना ख़ौफ़भरी कोई अनजान डगर,
साया-ए- दीवार है तुम सा
ये सोच सबसे उलझ जाता हूँ,
आज फिर तुमको आवाज़ लगाता हूँ ।

दरख्त सा वो साया
भरी धूप भी लगती थी छाया,
खुद को कात कर बुना ‘जो’ तुमने
हर ‘उस’ दिन पर इतराता हूँ,
आज फिर तुमको आवाज़ लगाता हूँ ।

बंजर होती सपनों की धरती,
उम्मीदों का सूखता आसमान,
तुम नहीं आस-पास
इस हक़ीक़त को झुठलाता हूँ,
आज फिर तुमको आवाज़ लगाता हूँ……
आज फिर तुमको आवाज़ लगाता हूँ।

पढ़िए पिता से संबंधित ये बेहतरीन रचनाएं :-


संजय शर्मामेरा नाम संजय शर्मा है। मैं यू टी सी एल, हिरमी, रायपुर, छत्तीसगढ़ का निवासी हूँ। मेरी स्वयं की ट्रेवल एजेंसी है। अप्रतिमब्लॉग पर यह मेरी पहली रचना है। आशा करता हूँ आपको मेरी ये रचना ‘पिता को समर्पित कविता ‘ पसंद आयेगी।

” पिता की याद में कविता ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

धन्यवाद।

qureka lite quiz

आपके लिए खास:

3 comments

Avatar
Ankit Sarawgi June 21, 2021 - 5:16 PM

Bohot achhi kabita hai. Very nice

Reply
Avatar
Kavita January 15, 2021 - 12:31 AM

Very touching but nice ????.

Reply
Avatar
Sunil July 10, 2020 - 11:54 PM

Good

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More