Home हिंदी कविता संग्रहदेशभक्ति कविताएँ देशप्रेम पर छोटी कविता :- भारत का हर लाल कह रहा | भारत पाकिस्तान पर कविता

देशप्रेम पर छोटी कविता :- भारत का हर लाल कह रहा | भारत पाकिस्तान पर कविता

by ApratimGroup

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है

देशप्रेम पर छोटी कविता में पढ़िए पाकिस्तान को चुनौती देती एक भावपूर्ण कविता। भारत और पाकिस्तान की दुश्मनी से कौन वाकिफ नहीं है। जबसे भारत आज़ाद हुआ तब से ही पाकिस्तान उसे धोखा देते आ रहा है। भारत हर बार उसे मुंहतोड़ जवाब देता रहा है। एक बड़े भाई की तरह हर बार पाकिस्तान को उसकी गलती के लिए माफ़ कर देता है। लेकिन पाकिस्तान को याद रखना चाहिए कि माफ़ कर देने का अर्थ यह नहीं हम मजबूर हैं। ऐसा ही कुछ सन्देश दे रही है ये देशप्रेम पर छोटी कविता :-

देशप्रेम पर छोटी कविता

देशप्रेम पर छोटी कविता

भारत का हर  लाल कह रहा, सुन ले पाकिस्तान।
अगर  सलामत  रहना चाहे, त्याग जरा अभिमान।।
नीज  कर्म  से  सदा कलंकित, करता उल्टे काम।
तनी  त्यौरी  आर्यावर्त्त  की,  मिटे  जगत  से नाम।।

आतंकी    हमले    करता   है,  नहीं  सुने तू बात।
जिसके  टुकड़ों  पर  पतला  है, करे उसी से घात।।
छुटभैये    आतंकी    हमला, करता  है  दिन रात।
संमुख  आकर  जीत सके  तू, नहीं  न है औकात।।

घात   लगाए   बैठा   रहता,  करता   है  नुकसान।
गर  न  सम्हला  अब  भी प्यारे,  होगा तू शमशान।।
बात   मानले   अब   भी   मेरी,  नही  हुआ है देर।
मानेंगे    प्रातः   का    भटका,  लौटा    देर  सबेर।।

हमने  तुमको  दूध  पिलाया,  गरल  रहा  है  बाँट।
बहुत  हुआ  है  अब न  सहेंगे,  खड़ी  करेंगे  घाट।।
सीमावर्ती     निर्दोषों    को,  रोज   रहा   तू   मार।
भ्रात  मान  कर छोड़ रहे है,  समझ  नही  लाचार।।

अपने बच्चों से तुझको अब, रहा तनिक भी प्यार।
छोड़  शत्रुता  हाथ  मिलाले, जैसे   मिलते    यार।।
शान्ति   का   संदेश   लिए ह,म   खड़े है तेरे द्वार।
वर्ना   तेरे  घर  में   जाकर,   तुझे    करेंगे    खार।।

पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग की ये बेहतरीन देश भक्ति कविताएँ :-


pandit sanjeevn shuklaयह कविता हमें भेजी है पं. संजीव शुक्ल “सचिन” जी  ने। आपका जन्म गांधीजी के प्रथम आंदोलन की भूमि बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले के मुसहरवा(मंशानगर ग्राम) में 07 जनवरी 1976 को हुआ था | आपके पिता आदरणीय विनोद शुक्ला जी हैं और माता आदरणीया कुसुमलता देवी जी हैं जिन्होंने स्वत: आपको प्रारंभिक शिक्षा प्रदान किए| आपने अपनी शिक्षा एम.ए.(संस्कृत) तक ग्रहण किया है | आप वर्तमान में अपनी जीविकोपार्जन के लिए दिल्ली में एक प्राईवेट लिमिटेड कंपनी में प्रोडक्शन सुपरवाईजर के पद पर कार्यरत हैं| आप पिछले छ: वर्षों से साहित्य सेवा में तल्लीन हैं और अब तक विभिन्न छंदों के साथ-साथ गीत,ग़ज़ल,मुक्तक,घनाक्षरी जैसी कई विधाओं में अपनी भावनाओं को रचनाओं के रूप में उकेर चुके हैं | अब तक आपकी कई रचनाएं भी विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में छपने के साथ-साथ आपकी  “कुसुमलता साहित्य संग्रह” नामक पुस्तक छप चुकी है |

आप हमेशा से ही समाज की कुरूतियों,बुराईयों,भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों पर कलम चलाते रहे हैं|

‘ देशप्रेम पर छोटी कविता ‘ के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

धन्यवाद।

qureka lite quiz

आपके लिए खास:

6 comments

Avatar
Sukhmangal singh July 16, 2019 - 4:24 AM

हार्दिक शुभकामनाएं आपको और बधाई

Reply
Avatar
सुखमंगल सिंह April 3, 2019 - 7:16 PM

हार्दिक शुक्रिया आदरणीय Sandeep Kumar Singh Ji

Reply
Avatar
Alok Pratap Singh February 18, 2019 - 5:51 PM

AApko aapki rachana ke liye bahut bhaut badaiyan. Ak choti si par bahut naik aur bada matlb lye huye hai ye kavita.. shubkamnaye… muje bhi aapke ashirwad ki jarurat hai.. ashirwad n dena bhule… www.newquotesnwallpaper.com

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh February 19, 2019 - 12:48 PM

धन्यवाद अलोक प्रताप सिंह जी,, भगवान आपको सफलता की बुलंदियों तक पहुंचाए….

Reply
Avatar
Sukhmangal singh February 17, 2019 - 5:58 PM

रचनाकार को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई
रचना गम्भीर और समाज को ग्राहय होने की उम्मीद करता हूं! सद्भाव सहित

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh February 19, 2019 - 12:47 PM

धन्यवाद सुखमंगल सिंह जी….

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More