Home हिंदी कविता संग्रह जिंदगी क्या है – जिंदगी पर कविता | Zindagi Poetry In Hindi Poem On Zindagi

जिंदगी क्या है – जिंदगी पर कविता | Zindagi Poetry In Hindi Poem On Zindagi

by Sandeep Kumar Singh

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है

जिंदगी क्या है ? ( Zindagi Poetry In Hindi ) जी हाँ दोस्तों, हम सब के मन में ये बात कभी ना कभी जरुर आता है। खासतौर से तब जब हम किसी तरह की परेशानी में फसे हो,जब जीवन दुखदायी हो रही हो, कही से कोई उम्मीद की रौशनी दिखाई ना दे ऐसे समय में अक्सर हम इस सवाल का जवाब ढूंढने की कोशिश करते है, की आखरी ये जिंदगी है तो है क्या? बस ऐसे ही कुछ भावनाओ को कविता के रूप में उतार के मैंने २ कविताए लिखी है जो आपके सामने पेश है… जिंदगी क्या है कवितायें।

जिंदगी क्या है – जिंदगी पर कविता

जिंदगी क्या है - जिंदगी पर कविता

कविता 1. एक किताब है ज़िन्दगी

बनते बिगड़ते हालातों का
हिसाब है जिंदगी,
हर रोज एक नया पन्ना जुड़ता है जिसमें
वो ही एक किताब है जिंदगी।

हर पल एक नया किस्सा,
तैयार रहता है अपना अंत पाने को,
ग़मों के दौर में खुशियों की
राह 
तकते हैं कई लोग,
तड़पते हैं पेड़ और पंछी पतझड़ में
जैसे 
बसंत पाने को।

कभी कड़ी धूप सी परेशानियाँ
जलाती रहती हैं दर्द की एक आग सीने में,
कभी खुशियों में आनंद मिलता है तो
खुशबू आती है पसीने में,
मजबूरियों का सिलसिला
चलता रहता है सबकी राहों में,
बदल देते हैं वो शख्स कायनात अपनी
होती है जान हौसलों की जिनकी बाहों में।

छिपा कर रखती है कई राज अनजाने से
कहने को वो हिजाब है जिंदगी
हर रोज एक नया पन्ना जुड़ता है जिसमें
वो ही एक किताब है जिंदगी।

यादों की किताब – कविता पुरानी यादों की | Yaadon Ki Kitab


कविता- २. ज़िन्दगी का राज किसने पाया है

कभी धूप कभी छाया है
कभी सत्य कभी माया है
बीत रही इस जिंदगी का
राज़ किसने पाया है?

कभी आस कभी विश्वास है
खुशदिल है कभी उदास है ,
महफ़िलों में नजर नहीं आती है
तन्हाई में दुश्मन जैसे पास है,
कभी हंसाया है इसने
कभी जी भरकर रुलाया है,
बीत रही इस जिंदगी का
राज किसने पाया है?

किसी के लिए सरताज है जिंदगी
कभी दो वक़्त की रोटी की मोहताज है,
कोई रो-रो कर निकाल रहा है
किसी के लिए एक बिंदास अंदाज है जिंदगी
कोई ठोकरों से टूट गया है देखो
किसी ने दूसरों की जिंदगी को सजाया है
इस बीत रही जिंदगी का
राज किसने पाया है?

नफरत की आग लिए दिल में
जलते रहते हैं कई लोग
और कुछ
खुशियों की दवाई बाँट रहे हैं
मिटाने को ग़मों के रोग,
जिंदगी ने अपने रूप से हमें
इस तरह से मिलाया है,
इस बीत रही जिंदगी का
राज किसने पाया है?

जिंदगी पर शायरी – जिंदगी के अलग-अलग रंग बताती शायरियाँ


आपको ये कविता ( Zindagi Poetry In Hindi ) जिंदगी क्या है कैसे लगी? आपके क्या विचार है जिंदगी के बारे में? अपने विचार हमें कमेंट के माध्यम से जरुर बताये.. धन्यवाद ।

तबतक पढ़े ये ज़िन्दगी का फलसफा बताती ये कविता/लेख

आपके लिए खास:

69 comments

Avatar
Manjeet Nishad जनवरी 13, 2022 - 7:40 पूर्वाह्न

जीना सिर्फ जिंदगी नहीं है जिंदगी में कुछ पाना भी जिंदगी है

Reply
Avatar
Shrirang G Chaudhari सितम्बर 17, 2021 - 11:08 पूर्वाह्न

बहोत बढ़िया सर जी, जिंदगी पर बहोत अच्छी कविता लिखी आपने

Reply
Avatar
Anjali जून 19, 2020 - 8:40 अपराह्न

Very useful and helpful poem

Reply
Avatar
sunil मई 21, 2020 - 7:59 अपराह्न

bahot accha likha hai apne

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh मई 23, 2020 - 12:51 अपराह्न

Thank You Sunil Ji….

Reply
Avatar
Anmol मार्च 26, 2019 - 8:07 अपराह्न

Best poem

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अप्रैल 2, 2019 - 1:23 पूर्वाह्न

Thanks Anmol ji

Reply
Avatar
Ghanshyam दिसम्बर 2, 2018 - 4:47 अपराह्न

Thank u sir best poem

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh दिसम्बर 2, 2018 - 10:21 अपराह्न

घनश्याम जी आपका भी धन्यवाद….

Reply
Avatar
Shivani Rajput अक्टूबर 24, 2018 - 10:21 अपराह्न

बहुत अच्छी …. कविता

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अक्टूबर 26, 2018 - 2:20 अपराह्न

धन्यवाद शिवानी जी।

Reply
Avatar
Santosh Kumar अक्टूबर 4, 2018 - 9:26 अपराह्न

Sir,,
Bahut kuchh sikhati hai ye aapki Kavita…
Thanks u so much…

Reply
Avatar
Shaklain mustak जुलाई 28, 2018 - 3:08 पूर्वाह्न

सर अपने जो इस कवित के माध्यम से कहा है लाजवाब लाजवाब है। यही तो जिंदगी है।
सर आपसे अनुरोध है कि एक परेशानी पर कविता लेखे।

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जुलाई 28, 2018 - 9:18 पूर्वाह्न

धन्यवाद शकलैन मुस्ताक जी। आपका अनुरोध जल्द ही स्वीकार होगा। इसी तरह हमारे साथ बने रहिये।

Reply
Avatar
Pavan bharti जुलाई 14, 2018 - 7:09 पूर्वाह्न

किसी के आने जाने से life रुकती नही कभी,
इसी का नाम है जीन्दगी

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जुलाई 15, 2018 - 10:40 पूर्वाह्न

जी पवन जी इसी का नाम जिंदगी है।

Reply
Avatar
यशवंत कुमार जून 27, 2018 - 2:06 पूर्वाह्न

बहुत बढिया कविता

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जून 27, 2018 - 3:35 अपराह्न

धन्यवाद यशवंत कुमार जी।

Reply
Avatar
Nishipadma Nanda जून 19, 2018 - 1:21 अपराह्न

bahutaeeeeeeeeeeeeeeeeeee aacha

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जून 19, 2018 - 2:24 अपराह्न

Dhanywaad Nishipadma Nanda ji…

Reply
Avatar
Rajesh Deshmukh जून 10, 2018 - 9:03 अपराह्न

Sir हमें आपकी Blog बहुत अच्छा लगा आपने जिंदगी को बहुत अच्छे तरीके से Difine kiya hai

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जून 11, 2018 - 1:36 अपराह्न

धन्यवाद राजेश देशमुख जी।

Reply
Avatar
गोतम चन्द दक मार्च 10, 2018 - 9:16 पूर्वाह्न

जीवन की सच्चाई अच्छी लगी FB पर शेयर की आपका नाम Comment में लिखा क्षमा करें और भी शेयर करूंगा

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh मार्च 10, 2018 - 7:38 अपराह्न

हाहाहा…..गौतम चंद जी कोई बात नहीं आप ने मेरा नाम लिख दिया इतना ही बहुत है मेरे लिए। बहुत-बहुत धन्यवाद आपका….

Reply
Avatar
Saqlain फ़रवरी 26, 2018 - 10:58 पूर्वाह्न

zindagi kisi ke liye Jannat Ka Bag hai,
Kisi ke liye jahannam ki agg hai
Kisi ke liye waqt kate nhi kt ta
Kisi ke liye khud ke liye wqt nhi
Kisi ke liye zindgi majboori aur zimmedariyo ka naam hai
Kisi ke liye zindagi chakti mahkta kwab hai
Kisi ke liye zindgi saans lena dushwar hai
Kisi ke liye zindagi gulab hai.

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh फ़रवरी 27, 2018 - 8:59 अपराह्न

बहुत बढ़िया Saqlain जी…..

Reply
Avatar
niraj kumar फ़रवरी 14, 2018 - 4:38 अपराह्न

Sandeep sir bahut aacha likhhe h aap.

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh फ़रवरी 15, 2018 - 8:44 पूर्वाह्न

धन्यवाद नीरज कुमार जी।

Reply
Avatar
राजेश जनवरी 3, 2018 - 9:11 पूर्वाह्न

बहुत खूब क्या कहने बेहद उम्दा नायाब बेमिसाल व लाजवाब रचनाएँ ????

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जनवरी 3, 2018 - 9:56 अपराह्न

धन्यवाद राजेश जी….

Reply
Avatar
Kapil chaudhary दिसम्बर 27, 2017 - 1:04 अपराह्न

ise maine likha h kaisi aap bta skte ho

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh दिसम्बर 27, 2017 - 5:16 अपराह्न

Kyunki ye abhi kahi aur available nhi hai ya fir logo ki najron me nhi aya. Fact ye hai jo cheej kisi dwara pahle dikhayi jaati jai usi ki maan lee jaati hai.

Reply
Avatar
Kapil chaudhary दिसम्बर 27, 2017 - 1:02 अपराह्न

Bante bigdte halato Ka aagaz hai jindki..
Har roj badlne ke liye ek badlaav hai jindki..
Bachpan se budhape tak jeene ke liye ek Raj hai jindki..
sapno ko haqiqat main badlne ke liye ek Aas hai jindki..
gareebo ki galiyon main bdi badnaam hai jindki..
Do dilo ke milan ke liye ek Mukaam hai jindki..
Bhagwaan se mila ek vardaan hai jindki..
kisi ke liye nafrat toh kisi ke liye bdi mahaan hai jindki..
Behisab baate krne wali ek Aawaj hai jindki khud ko badalne ke liye ek Badlaav hai jindki…

Reply
Avatar
Ajay Tripathi दिसम्बर 8, 2017 - 5:54 अपराह्न

Bahut sundar bhaiya ji

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh दिसम्बर 9, 2017 - 7:17 अपराह्न

धन्यवाद अजय त्रिपाठी जी।

Reply
Avatar
soheel नवम्बर 14, 2017 - 6:47 अपराह्न

sir aap ki kavita ka jawab nahi ye kavita la jawab hai. sir

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh नवम्बर 14, 2017 - 7:40 अपराह्न

धन्यवाद soheel जी।

Reply
Avatar
Anup Bhardwaj अक्टूबर 7, 2017 - 10:52 पूर्वाह्न

आपने बहुत अच्छी कविता लिखी है जिसको पड़कर बहुत से लोगो का तरीका पता चल जायेग की ।
*जिंदगी क्या है*

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अक्टूबर 7, 2017 - 10:59 पूर्वाह्न

जी धन्यवाद अनूप भरद्वाज जी।

Reply
Avatar
Anup Bhardwaj अक्टूबर 7, 2017 - 10:45 पूर्वाह्न

जिंदगी एक खुली किताब है ।
जिसको संभालना हमारे हाथों में है
नही तो दीमक लग जाती है।

Reply
Avatar
Anup Bhardwaj अक्टूबर 7, 2017 - 10:39 पूर्वाह्न

सही कहा
।।जिंदगी एक खुली किताब है।।
जो हवा के साथ साथ up down होती रहती है।

Reply
Avatar
rajan kumar सितम्बर 28, 2017 - 5:53 पूर्वाह्न

Hame abhi pata chala Ki jindagi ek khuli kitab hai

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh सितम्बर 28, 2017 - 7:27 अपराह्न

जी सही कहा आपने, जिदगी एक ऐसी खुली किताब है जिसमे आप अपनी मेहनत की कलम से अपनी तकदीर लिख सक सकते हैं।

Reply
Avatar
Ranjan अगस्त 7, 2017 - 8:26 पूर्वाह्न

Very very nice

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अगस्त 7, 2017 - 8:53 पूर्वाह्न

Thank you very much Ranjan ji…

Reply
Avatar
poonam जुलाई 17, 2017 - 8:55 अपराह्न

Very nice

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जुलाई 17, 2017 - 10:36 अपराह्न

धन्यवाद Poonam जी।

Reply
Avatar
Roshan जुलाई 11, 2017 - 7:19 अपराह्न

ये जिंदगी जीने का सही मायने बता ती है

Reply
Avatar
Ankit जून 14, 2017 - 9:12 पूर्वाह्न

Super…… Sir ji

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जून 14, 2017 - 9:51 पूर्वाह्न

Thanks Ankit ji…

Reply
Avatar
janardan Dixit अप्रैल 29, 2017 - 10:46 अपराह्न

wah kya bat hai… aap jaiso ko padana hi jindagi hai….

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अप्रैल 30, 2017 - 7:45 पूर्वाह्न

ये तो आपका बड़प्पन है janardan Dixit जी…बहुत बहुत आभार आपका।

Reply
Avatar
अशु अप्रैल 21, 2017 - 4:43 अपराह्न

आपकी ये कविता इतनी अनमोल है कि शब्दकोष खाली हैं क्या कुछ अनमोल लिखूं………………

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अप्रैल 21, 2017 - 4:56 अपराह्न

धन्यवाद अशु जी… एक लेखक के लिए इससे बड़ी तारीफ कुछ नहीं हो सकती…आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

Reply
Avatar
hanif अप्रैल 14, 2017 - 8:51 अपराह्न

Jindagi!!!!!!!

Reply
Avatar
munim अप्रैल 4, 2017 - 2:02 अपराह्न

Nice poem

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अप्रैल 5, 2017 - 11:40 पूर्वाह्न

Thanks Munim ji…..

Reply
Avatar
Banshidhar अप्रैल 2, 2017 - 9:47 अपराह्न

Nice one broh =b. Thumbs up

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अप्रैल 2, 2017 - 9:49 अपराह्न

Thanks Banshidhar bro…..

Reply
Avatar
sanjubhai जनवरी 9, 2017 - 12:09 अपराह्न

Kya hai jindgi

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जनवरी 9, 2017 - 12:20 अपराह्न

बस यही है जिंदगी sanjubhai.. ..

Reply
Avatar
Ghanshyam meena दिसम्बर 21, 2016 - 1:52 अपराह्न

आज पहली बार अकेला बैठे हुए सोच रहा था । कि यार ये जिंदगी क्या है? तो google पर डाल दिया तो पाया कि अपने जो कविता लिखी वो सही है

Reply
Mr. Genius
Mr. Genius दिसम्बर 21, 2016 - 3:46 अपराह्न

धन्यवाद Ghanshyam Meena जी।
जिंदगी को शब्दों का रूप देने में हम कामयाब हो गए। जब किसी रचना को सराहा जाता है तभी वह जीवंत मानी जाती है। आपका बहुत बहुत धन्यवाद।
इसी तरह हमारे साथ जुड़े रहिये।

Reply
Avatar
Raju Gupt नवम्बर 8, 2016 - 8:56 अपराह्न

Very….. nice…. poem….
Thank you so much

Reply
Mr. Genius
Mr. Genius नवम्बर 8, 2016 - 9:14 अपराह्न

Thank you for your comment Raju Gupt ji…

Reply
Avatar
mahendar नवम्बर 7, 2016 - 11:28 पूर्वाह्न

Nice

Reply
Mr. Genius
Mr. Genius नवम्बर 7, 2016 - 5:57 अपराह्न

Thanks Mahendar ji….

Reply
Avatar
Priya अक्टूबर 28, 2016 - 12:22 अपराह्न

Nice Story Of Lfy

Reply
Mr. Genius
Mr. Genius अक्टूबर 29, 2016 - 8:39 पूर्वाह्न

Thanks Priya…….

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More