वक्त पर कविता :- वक्त की अहमियत बताती हिंदी कविता | Waqt Poem In Hindi

अपने जीवन में हम सपने तो बहुत सजाते हैं और सजाने भी चाहिए। पर ये सपने तब ही पूरे होते हैं जब हम उसके लिए उचित कर्म करते हैं। हमारे कर्म ही हमारे जीवन को श्रेष्ठ बनाते हैं। कहते हैं समय बहुत बलवान होता है। हमारे किये कर्मों का फल यह देर-सवेर हमें देता ही है। इसलिए जैसे हम कर्म करते हैं वैसा ही हमारा जीवन बन जाता है। इसके बारे में और पढ़ते हैं कविता ‘ वक्त पर कविता ‘ में :-

वक्त पर कविता

वक्त पर कविता

जैसी करनी होगी तेरी
वैसा ही फल तू पायेगा,
तेरी क्या औकात है प्यारे
ये वक़्त ही तुझे बताएगा।

मेहनत से चलती है गाड़ी
चले न कभी जुगाड़ से
जो न समझे बात ये प्यारे
न बचे वक़्त की मार से,
जो अब आरंभ किया न तूने
अंत काल पछतायेगा
तेरी क्या औकात है प्यारे
ये वक़्त ही तुझे बताएगा।

काम करे न कोई भी
हर बाते पे बनाये बहाने
उसकी किस्मत के बारे में
खुदा भी कैसे जाने,
हासिल उसको क्या होगा जो
हर मोड़ पे सोता जाएगा
तेरी क्या औकात है प्यारे
ये वक़्त ही तुझे बताएगा।

कई राजा बने हैं रंक यहाँ
कई रंक बने हैं राजा
वक़्त की महिमा जो न समझा
उसका बज गया बाजा,
होगा हौसला जिसमें वही
अपने सपनों को पाएगा
तेरी क्या औकात है प्यारे
ये वक़्त ही तुझे बताएगा।

वक़्त से पहले कुछ न मिले है
भाग्य से मिले न ज्यादा
सबर सदा संघर्ष में रखना
खुद से करना यह वादा,
आगे वही बढ़ेगा फिर जो
सदा वादा यही निभाएगा
तेरी क्या औकात है प्यारे
ये वक़्त ही तुझे बताएगा।

तन-मन जो करता है समर्पित
लक्ष्य उसी को मिलता है
सबसे आगे वो रहता फिर
उसके पीछे जग चलता है,
कर्मठ होगा जो जीवन में
वही नया इतिहास रचाएगा
तेरी क्या औकात है प्यारे
ये वक़्त ही तुझे बताएगा।

जैसी करनी होगी तेरी
वैसा ही फल तू पायेगा,
तेरी क्या औकात है प्यारे
ये वक़्त ही तुझे बताएगा।

इस कविता का विडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें :-

Waqt Par Kavita | वक्त पर कविता - तेरी क्या औकात है प्यारे | बेहतरीन प्रेरणादायक कविता

पढ़िए वक़्त से जुड़ी ये बेहतरीन रचनाएं :-

इस वक्त पर कविता के बारे में अपनी राय हम तक जरूर पहुंचाएं।

धन्यवाद।

8 Comments

  1. Avatar Amrita Bhattacharjee
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  2. Avatar ABHISHEK BHARTI
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  3. Avatar Arpita
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  4. Avatar हंसRaj

Add Comment