टूटता वादा – एक ही समाज के दो पहलुओं को दिखाती कविता

ये कविता ” टूटता वादा ” हमें प्रीती शर्मा ने अमृतसर के जंडियाला गुरु इलाके से भेजी है। जोकि इस समय अंग्रेजी विभाग में अध्यापन का कार्य कर रही हैं। इस कविता में समाज के दो पहलु दिखाए गए हैं।

यह दिखाया गया है कि किस तरह एक औरत जब अपने सपने संजोती है तो उसके अपने चाहने वाले उसे प्रेरित करते हैं। लेकिन जब वो सपनों को साकार करने के लिए आगे बढती है और समाज उस पर कोई गलत आरोप लगा देता है तो उसे प्रेरित करने वाले भी उसी समाज का एक हिस्सा बन जाते हैं और उस औरत को गलत कहने लगते हैं। इसलिए ये कविता दो हिस्सों में लिखी गयी है।

टूटता वादा

(पहला भाग जहाँ उस औरत को प्रेरित किया जाता है)

चल चल तू बढ़ती चल तू ,
सतरंगी ख्वाबों के संग
साहस उम्मीदें हसीं को लेकर
चल चल तू उड़ती चल तू ,
सीखने को है बहुत कुछ अभी
अम्बर को अपना करना है,
ख्वाबों की तश्करी संग
रंग निराला भरना है।

किया जो वादा खुद से तुमने
खुद को पहचान दिलाने का,
कल्पना चावला, किरण बेदी,
डॉ. राधा कृष्णन जैसा मुकाम पाने का ,
इस वादे को पूरा करने,
चल चल तू बढ़ती चल तू
चल चल तू उड़ती चल तू।

इस वादे को पूरा करने
वो पहुंची एक अनोखी नगरी
भांति-भांति के फूल लगे थे
और हरे-भरे वृक्ष और पौधे,
हर्षोल्लास से लगी वो भरने
रंग नए इस उपवन में
दीन ईमान और सच्चाई ही
भरी थी बस उसके मन में।

खुशनुमा है जिंदगी – ज़िन्दगी पर कविता | Poem On Life In Hindi

(दुसरा भाग जब उसके सपने टूट कर चकनाचूर हो जाते हैं और वो अकेली रह जाती है।)

टूटता वादा

क्या पता था पतझड़ आएगी
और अपना कहर वो ढाएगी
किया वार अहम् के खंजर से
छीन पहचान ये कैसा किया काम रे
आग से उज्जवल पंछी को
दिया कीच का नाम रे।

उड़ते हँसते पंछी को
डाला आरोपों के जाल में
न है कोई सुनने वाला
न कोई पूछे है किस हाल में,
हालत थी ये आज सितम की
भूल गए थे बात अमृता प्रीतम की

रो रही थी बेटी आज
वारिश शाह के पंजाब की
भूल गयी थी वादा अब वो
फिकर थी तो बस आरोपों के जाल की
टूट गए सपने सारे अब
रही न कोई आस
समाज की जंजीरों से
अधूरी रह गयी सफलता की प्यास।

पढ़ें उदास जिंदगी की कविता :- ढल चुका है सूरज हो चली है शाम धीरे-धीरे।

आपको ये कविता कैसी लगी हमें जरूर बताएं…! अगर आप भी ऐसी बेहतरीन कविताये लिख सकते है तो email – blogapratim@gmail.com पर या हमें Facebook Page पर संपर्क करे!

पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग पर ऐसी ही कुछ और रचनाएं :- 

धन्यवाद्।

11 Comments

  1. Avatar मिंकू मुकेश सिंह
  2. Avatar Akshay sharma
  3. Avatar Girish
  4. Avatar Ruhi
  5. Avatar Vinod
  6. Avatar Ankush

Add Comment

Safalta, Kamyabi par Badhai Sandesh Card Sanskrit Bhasha ka Mahatva in Hindi Surya Ke Bare Mein Jankari | Surya Ka Tapman Vyas Prithvi Se Doori 25 Famous Deshbhakti Naare and Slogan आधुनिक महापुरुषों के गुरु कौन थे?