Home हिंदी कविता संग्रहगीत गजल और दोहे तिरंगे का महत्त्व दोहे – “उड़े तिरंगा आज” कविता रूप में | तिरंगा स्टेटस

तिरंगे का महत्त्व दोहे – “उड़े तिरंगा आज” कविता रूप में | तिरंगा स्टेटस

by ApratimGroup

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है

जब भी मेरे देश का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लहराता है। हर भारतीय का सिर गर्व से ऊपर उठ जाता है। बहुत किस्मत वाले होते हैं वो लोग जिनको कफ़न के रूप में तिरंगा नसीब होता है। यह तिरंगा किसी एक व्यक्ति की नहीं बल्कि पूरे देश की शान है। आइये पढ़ते हैं स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर विशेष रूप से लहराए जाने वाले तिरंगे का महत्त्व दोहे –

तिरंगे का महत्त्व दोहे

तिरंगे का महत्त्व दोहे

पूरे भारत देश में,
उड़े तिरंगा आज ।
तू ही मेरी शान है,
हमको तुम पर नाज ।।

तीन रंग के मेल से,
झंडा ये लहराय ।
केसरिया सफेद हरा,
बीच में चक्र सुहाय ।।

रंग केसरिया तुझ से,
मांगे है बलिदान ।
आपस में न तुम उलझो,
श्वेत रंग पहचान ।।

पर्यावरण साफ रखो,
हरे रंग की बात ।
कहता है चक्र बीच में,
सतत चलो दिन-रात ।।

छुट्टी का दिन न समझो,
निकलो घर से आज ।
जश्न मना सभी मिल के,
छोड़ सभी तुम काज ।।

ईद दीवाली से बड़ा,
है यह पर्व महान ।
शहीदों को न भूलना,
उनकी हो गुणगान ।।

देना न इसको झुकने,
इसकी शान न जाय ।
जो इस पर कुर्बान हो,
वो सपूत कहलाय ।।

पढ़िए :- तिरंगे पर कविता “लहर-लहर लहराए तिरंगा”


Vinay kumarयह रचना हमें भेजी है आदरणीय विनय कुमार जी ने जो की अभी रेलवे में कनिष्ठ व्याख्याता के रूप में कार्यरत हैं।
रचनाएं व अवार्ड: इनकी रचनाएं देश के 50 से अधिक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी है। जिस के फलस्वरूप आप कई बार सम्मानित हो चुके हैं। गत वर्ष 2018 का रेलमंत्री राष्ट्रीय अवार्ड भी रेल मंत्री ने दिया था।
लेखन विद्या: गीत, ग़ज़ल, दोहा, कुण्डलिया छन्द, मुक्तक के अलावा गद्य में निबंध, रिपोर्ट, लघुकथा इत्यादि। तकनीकी विषय मे हिंदी में लेखन।

‘ तिरंगे का महत्त्व दोहे ‘ के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

धन्यवाद।

qureka lite quiz

आपके लिए खास:

11 comments

Avatar
विनय कुमार August 15, 2019 - 8:05 PM

आपके स्नेह सींचन के लिए मैं आपका आभारी हूँ। इसी प्रेरणा से मैं और भी अधिक प्रयास करता हूँ। आगे भी आपकी सेवा में उपस्थित रहूँगा और साहित्य साधना करता रहूँगा।

Reply
Avatar
Tuddu August 15, 2019 - 7:01 PM

Very nice lines… Specifically the description of tri colour..

Reply
Avatar
Sanjit kumar August 15, 2019 - 7:54 AM

बहुत खूब, सच मे दिल को छू जाने वाली कविता है जिसमें देशभकति और परयावरण का रस घुला हुआ है। ऐसे करमचारी कवि को सतत् नमन। जय हिन्दी जय हिन्दुस्तान.

Reply
Avatar
Nitesh kumar August 15, 2019 - 5:58 AM

Touching and so inspiring…every line…

Reply
Avatar
Ricky Roy August 15, 2019 - 12:46 AM

Bohut hi achaa kabita hai..jo v padega achaa lagega
Sir ap aise hi achaa achaa kabita likhte raheia or humlog ko inspiring krte raheia…ap bohut aage badhe… bhagwan apka sath de…jai hind…

Reply
Avatar
Priya brahma August 14, 2019 - 11:21 PM

Bht khub likhe ho aap????????????…..isi Tarah kavita likhte rahe jisse hamein aapki behetarein Kavita ye parhne ki sobhagya mile????????????

Reply
Avatar
Suresh Ram August 14, 2019 - 11:11 PM

बहुत अच्छा आपने लिखा है, बहुत बहुत अभिनंदन

Reply
Avatar
Manoj kumar August 14, 2019 - 11:11 PM

आज तक हमने जितने भी देश भक्ति से सबंधित कविताए पढ़े, उनमे सिर्फ देश भक्ति की भावन होते थे. लेकिन इस कविता में देश भक्ति के साथ पर्यावरण की रक्षा की भी प्रेरणा दी गयी है, और आपस में मिल जुलकर सबसे बड़े उत्सव के रूप मे मनाने की बाते कहा गया है…

Reply
Avatar
Priya brahma August 14, 2019 - 11:07 PM

Bht khub….likhe hai aap????????????…ISI Tarah se Kavita likhte rahe…jisse hamein apki atchi atchi Kavita ko parhne ki sobhagya mile????????????

Reply
Avatar
Sandipan Dey August 14, 2019 - 6:39 PM

Humare desh k upar bohot accha kabita banaya gaya hai… vinay kumar ji ko bohot bohot avinandan.. aap aage aise hi aur kabita likhte rahe …

Reply
Avatar
Ks chhetri August 14, 2019 - 3:55 PM

Touching and Soo inspiring , Happy independence Day sir

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More