Home » हिंदी कविता संग्रह » जीवन पर कविताएँ » संकल्प पर कविता :- संकल्पों से ही जीवन | Sankalp Poem In Hindi

संकल्प पर कविता में बताया गया है कि संकल्प शक्ति ही मनुष्य को विकास की राह दिखाती है । संकल्प से ही व्यक्ति अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकता है । संकल्प के आधार पर ही मनुष्य के जीवन में उन्नति और अवनति निर्धारित होती है । संकल्प से ही सब प्रकार की कामनाओं की पूर्ति संभव हो सकती है । हम अपने मन से बुरे विचारों को निकालकर सभी की भलाई का संकल्प लें ।शुभ संकल्पों में ही विश्व का कल्याण निहित है ।

संकल्प पर कविता

संकल्प पर कविता

संकल्पों से ही जीवन की
दूर हुई हर बाधा,
संकल्पों ने ही मानव का
संकट में हित साधा ।

संकल्पों की दूर दृष्टि से
राह प्रगति की दिखती,
संकल्पों की कठिन लेखनी
भाग्य मनुज का लिखती ।

पूरी होती संकल्पों से
मन की सौ सौ चाहें,
आसमान भरती अपने में
संकल्पों की बाहें ।

संकल्पों से अंतरिक्ष में
जा पहुँचा है मानव,
खोज कई करते वैज्ञानिक
संकल्पों से नित नव ।

लक्ष्य स्वयं ही संकल्पों से
पास चले हैं आते,
दृढ़ निश्चय वालों को पथ के
मोड़ नहीं भटकाते ।

संकल्पी जन गिर गिरकर भी
उठ उठ कर चल देते,
मंजिल पाने से पहले वे
साँस नहीं हैं लेते ।

वैसे तो हर जन के दृग में
कल के सपने पलते,
लेकिन जो होते संकल्पी
मात्र उन्हीं के फलते ।

अवरोधों से दृढ़ संकल्पी
हार कभी ना माने,
हो जाता पर्वत के आगे
वह सीने को ताने ।

जैसे हो संकल्प हृदय में
वह वैसा ही होता,
मानव की उन्नति अवनति के
बीज यही है बोता ।

अंधकार हो दूर जगत से
सबको मिले उजाला,
मन अपना सबका हित सोचे
शुभ संकल्पों वाला ।

संकल्प  पर कविता आपको कैसी लगी ? अपने विचार कमेंट बॉक्स में लिखना न भूलें।

तब तक पढ़ें ये 5 प्रेरणा देने वाली कविता :- 

धन्यवाद।

You may also like

1 comment

Avatar
Tanushree mandal August 26, 2021 - 7:43 PM

धन्यवाद

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More