Home हिंदी कविता संग्रह पिता का दर्द पर कविता – बंजर है सपनों की धरती | Ek Pita Ke Dard Par Kavita

पिता का दर्द पर कविता – बंजर है सपनों की धरती | Ek Pita Ke Dard Par Kavita

by Sandeep Kumar Singh

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है

पिता का दर्द पर कविता :- हमें जन्म देने वाले हमारे पिता जो हमारे लिए अपना सारा जीवन दुखों और परेशानियों में बिता देते हैं। पर बदले में आज की युवा पीढ़ी क्या कर रही है? आज बस अपने स्वार्थ के लिए घर में बूढ़े बाप को अनदेखा किया जाता है और उन्हें वो प्यार नहीं दिया जाता जिसके वो हकदार हैं।

ऐसा करते समय शायद यह पीढ़ी ये भूल जाती है कि उनके जीवन में भी एक ऐसा दिन आएगा। ऐसा ही कुछ मैंने इस कविता में अपने शब्दों द्वारा कहने की कोशिश की कि कैसे एक पिता के सपनों की धरती को बेटों ने बंजर बना दिया है और पिता प्यार की फसल के बिना कैसे लाचार है कविता ‘ बंजर है सपनों की धरती ‘ में :-

पिता का दर्द पर कविता

पिता का दर्द पर कविता

चेहरे की इन झुर्रियों के पीछे
कई हसीन दास्तान हैं,
बंजर है सपनों की धरती
उम्मीदों का सूखा आसमान है।

बीते वक़्त का कारवां साथ चलता है
दिल में कहीं एक छोटा सा दर्द पलता है,
ख्वाहिशों का बोझ लिए जिंदगी में
एक-एक कर हर अरमान जलता है,
बोझिल सा लगता है जीवन
हर पल सब्र का इम्तिहान है,
बंजर है सपनों की धरती
उम्मीदों का सूखा आसमान है।

कभी जो परिवार के बाग़ का माली था
आज उसकी झोली खली है,
न जाने कैसी सभ्यता है
अनपढ़ बाप अब लगता गाली है,
एक वक़्त की रोटी देना भी
अब तो समझते एहसान हैं,
बंजर है सपनों की धरती
उम्मीदों का सूखा आसमान है।

कभी खांसी, कभी बुखार,
कभी मौसम की मार है,
थोड़ी बहुत तसल्ली छीने
अपनों का अत्याचार है,
जिसे पालने में जान लगा दी
उसे न जाने किस बात का गुमान है,
बंजर है सपनों की धरती
उम्मीदों का सूखा आसमान है।

दौलत के नहीं है प्यार के भूखे
हर पल अपनों का रास्ता देखे,
खली पेट रहकर थे पाले
आज वही देते हैं धोखे,
खून का रिश्ता था जिनसे
वो आज बने अनजान हैं,
बंजर है सपनों की धरती
उम्मीदों का सूखा आसमान है।

फ़िक्र न कर सब ढल जाएगा
तेरा भी ऐसा कल आएगा,
याद करेगा बीते लम्हे
कोसेगा खुद को पछताएगा,
उस वक़्त लगेगा तुझको कि
इससे बेहतर श्मशान है,
बंजर है सपनों की धरती
उम्मीदों का सूखा आसमान है।

आपको यह कविता कैसी लगी हमें जरूर बताएं।

पढ़िए पिता से संबंधित अन्य सुंदर रचनाएं :-

धन्यवाद।

आगे क्या है आपके लिए:

qureka lite quiz

आपके लिए खास:

12 comments

Avatar
Sumitra chhetri जून 23, 2021 - 1:15 अपराह्न

Bohot hi sachi or achi kavita hai… Ajj k bacho ki sachai deakhati… Bohot uttam ????

Reply
Avatar
Vikas Rana मई 1, 2020 - 10:56 अपराह्न

बहुत अच्छी यह कविता मेरी आई डी पर भेज दो धन्यवाद

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh मई 2, 2020 - 11:16 पूर्वाह्न

विकास जी ये कविताएँ आप यहीं पढ़ सकते हैं।

Reply
Avatar
Dev Saheb फ़रवरी 25, 2020 - 4:36 अपराह्न

बहुत बढ़िया थैंक्स

Reply
Avatar
Kranti bhai Badamiya मार्च 12, 2019 - 12:36 अपराह्न

Realy Salute sir.
Abhi ke navjavano ko ye Sikh leni chahiye.
Against salute.

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh मार्च 12, 2019 - 3:50 अपराह्न

धन्यवाद क्रांति भाई।

Reply
Avatar
Hemant Tamboli फ़रवरी 27, 2019 - 1:32 अपराह्न

बहुत अच्छी ओर पिता के मर्म को समझाती हुई ओर दिल को छूती हुई रचना हैं…..

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh मार्च 2, 2019 - 5:25 अपराह्न

Thanks Hemant Tamboli ji…

Reply
Avatar
Vishavjeet Bishnoi जून 17, 2018 - 11:20 अपराह्न

बहुत खूब

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जून 18, 2018 - 7:32 पूर्वाह्न

धन्यवाद विश्वजीत बिश्नोई जी।

Reply
Avatar
समित राज रौशन जनवरी 18, 2018 - 11:30 अपराह्न

हमे आपका कविता बहुत बढियं लगा

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जनवरी 19, 2018 - 10:00 पूर्वाह्न

धन्यवाद समित राज रौशन जी।

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More