Home हिंदी कविता संग्रहरिश्तों पर कविताएँ Baap Ki Ahmiyat Par Kavita | बाप की अहमियत पर कविता

Baap Ki Ahmiyat Par Kavita | बाप की अहमियत पर कविता

by Sandeep Kumar Singh

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है

Baap Ki Ahmiyat Par Kavita हमारे जीवन में बाप की बहुत अहमियत होती है। वह अपने जीवन को दांव पर लगा कर अपने बच्चों के भविष्य को सुनहरा बनाने का हर प्रयास करता है। लेकिन आज के समय में बच्चे अपने बाप के साथ क्या सुलूक करते हैं आइये पढ़ते हैं  बाप की अहमियत पर कविता में :-

Baap Ki Ahmiyat Par Kavita
बाप की अहमियत पर कविता

Baap Ki Ahmiyat Par Kavita

सपने जो देखे उसने सब
वो बेजान दिखाई देते थे,
बेबस सी वो झुकी हुयी दो आंखें देखी थीं मैंने
दबे हुए से कुछ उनमें अरमान दिखाई देते थे।

वो बाशिंदा इसी देश का था
तन लोहे सा अब हो गया था,
जाग के सारी रात काटकर
अपनी जवानी ढो गया था,
फिक्र उसे न थी अपनी बस
हालात दिखाई देते थे,
बेबस सी वो झुकी हुयी दो आंखें देखी थीं मैंने
दबे हुए से कुछ उनमें अरमान दिखाई देते थे।

चेहरे पे झुर्रियाँ आ गयी थीं
कोशिशें उसकी रंग ला गयी थीं,
इक बेटा अफसर बन गया था
गाड़ी लाल बत्ती की आ गयी थी,
उस बूढ़े के जीवन में अब
खुशियों के आसार दिखाई देते थे,
बेबस सी वो झुकी हुयी दो आंखें देखी थीं मैंने
दबे हुए से कुछ उनमें अरमान दिखाई देते थे।

हालात क्या बदले बदले दिल भी
बाप बोझ सा लगने लगा,
छोड़ गए सब तनहा उसको
घर बंधन सा लगने लगा,
पिता को अब हर अंधकार में
काल दिखाई देते थे,
बेबस सी वो झुकी हुयी दो आंखें देखी थीं मैंने
दबे हुए से कुछ उनमें अरमान दिखाई देते थे।

तकदीर भी उसकी क्या बनती
हाथ में जख्म हजार भरे
रेखा थी जो खुशियों की अब
बढ़ने का इंतजार करे
मिला न प्यार बेटे का उसको
बस ख्वाब दिखाई देते थे,
बेबस सी वो झुकी हुयी दो आंखें देखी थीं मैंने
दबे हुए से कुछ उनमें अरमान दिखाई देते थे।

लानत है ऐसे पूतों पर
बाप बोझ लगता जिनको,
लिखे जा रहे कर्म तेरे
भुगतेगा तू भी ये कल को,
बाप न दिखता है तुझको
तेरे लाल दिखाई देते हैं,
बेबस सी वो झुकी हुयी दो आंखें देखी थीं मैंने
दबे हुए से कुछ उनमें अरमान दिखाई देते थे।

दर-दर की ठोकर खायी थी
बेटे की ख़ुशी तब पायी थी,
आज वही ठोकर देखो
किस्मत फिर से ले आई है,
आज बाप को किए हुए जप
शाप दिखाई देते थे,
बेबस सी वो झुकी हुयी दो आंखें देखी थीं मैंने
दबे हुए से कुछ उनमें अरमान दिखाई देते थे।

जप = प्रार्थना

क्लिक करें और पढ़ें पिता पर और भी सुन्दर रचनाएँ :-

आपको ( Baap Ki Ahmiyat Par Kavita ) बाप की अहमियत पर कविता कैसी लगी ? कमेंट बॉक्स के जरिये हमें जरूर बताये, और इस कविता को शेयर करें।

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें :-

apratimkavya logo

धन्यवाद।

qureka lite quiz

आपके लिए खास:

8 comments

Avatar
Pradeep Singh मई 6, 2018 - 6:53 अपराह्न

आंख में आसू आ गये, बेहद मार्मिक ????

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh मई 9, 2018 - 8:52 अपराह्न

धन्यवाद प्रदीप सिंह जी।

Reply
Avatar
Ankit mishra दिसम्बर 26, 2017 - 2:19 अपराह्न

very nice man kush ho gya

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh दिसम्बर 26, 2017 - 2:44 अपराह्न

Thanks Ankit brother…

Reply
Avatar
digambar chavan फ़रवरी 12, 2017 - 12:33 पूर्वाह्न

Sundr kavita he bhai mane bhi kavita likhi he pesh pe dal ne ke liya kya karna hova

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh फ़रवरी 12, 2017 - 5:04 पूर्वाह्न

धन्यवाद Digambar chavan जी…आप अपनी कविता ईमेल द्वारा हमें भेज दीजिये। कविता प्राप्त होने पर प्रकाशित कर दी जायेगी। धन्यवाद।

Reply
Avatar
HINDI CREATORS मई 1, 2016 - 8:41 अपराह्न

waakai, Apratim hai.
Hindi me Different-2 posts and articles hain. Maine bhi ek blog start kiya hai. Yah Hindi Kavi, Kavita aur rachnakaaro ke baare me hai.
Kripya Visit kare aur sujhaw dein!
Dhanyawaad!!!

-Abhishek Singh
https://hindicreator.blogspot.in

Reply
Avatar
Mr. Genius मई 1, 2016 - 9:07 अपराह्न

Thanks Abhishek Singh and best wishes for your new blog.

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More