Home हास्य परीक्षा पर हास्य कविता :- परीक्षा के दिनों में विद्यार्थियों की हालत पर हास्य कविता

परीक्षा पर हास्य कविता :- परीक्षा के दिनों में विद्यार्थियों की हालत पर हास्य कविता

by Sandeep Kumar Singh

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है


परीक्षा सिर पार आती है तो सबके तोते उड़ जाते हैं। जिन्होंने सारा साल परिश्रम किया होता है उनके लिए परीक्षा कुछ खास तकलीफदेह नहीं होती। जिन्होंने सारा वर्ष कभी किताब ही न उठायी हो उनके लिए तो जैसे कोई मुसीबत बिना बताये आ गयी हो, ऐसा हाल होता है। ऐसे में कोई भगवान को याद करता है तो किसी के सिर पे परीक्षा के कारन सिर दर्द होता रहता है परन्तु फिर भी सभी लोग किताब उठा कर पढ़ते हैं। हाँ, कुछ ऐसे भी होते हैं जो पढ़ने की बस एक्टिंग करते हैं। तो आइये ऐसे ही हालातों का जायजा लेते हुए हम पढ़ते हैं परीक्षा पर हास्य कविता :-

इस कविता का विडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें ( कविता पढ़ने के लिए नीचे जाएँ ) :-

परीक्षा पर हास्य कविता | Funny Poem On Exam In Hindi | Pariksha Par Hasya Kavita | हिंदी हास्य कविता

परीक्षा पर हास्य कविता

परीक्षा पर हास्य कविता

आयी परीक्षा सिर पर देखो
मुंह से निकला हाय राम,
बने किताबी कीड़ा हैं सब
छोड़ के देखो सारे काम।

रिश्तेदारों को है चिंता
हमसे ज्यादा खाय रही
फेल हुयी थी चुन्नी अपनी
बता के बुआ डराय रही,
बस उनके चक्कर में अब तो
जीना अपना हुआ हराम
बने किताबी कीड़ा हैं सब
छोड़ के देखो सारे काम।

नींद न आती रातों को
उल्लू बन-बन जाग रहे
समझ न आये कौन दिशा में
दिमाग के घोड़े भाग रहे,
सिर में ऐसी दर्द छिड़े है
भगा सके न झंडू बाम
बने किताबी कीड़ा हैं सब
छोड़ के देखो सारे काम।

पढ़िए :- किताब के महत्व पर कविता।

जादू टोना, तंतर मंतर,
काम न कुछ भी करता है
इसके जाल में जो भी फंसता
वो जीता न मरता है,
मंदिर मस्जिद जहाँ भी जाओ
आता न मन को आराम
बने किताबी कीड़ा हैं सब
छोड़ के देखो सारे काम।

जाने कौन वो मानव था
हमसे दुश्मनी जिसने निभायी
जाने किस बदले की खातिर
उसने फिर परीक्षा बनायी,
मिल जाए जो हमें कहीं वो
कर दें उसका काम तमाम
बने किताबी कीड़ा हैं सब
छोड़ के देखो सारे काम।

चैन कहाँ मिल रहा किसी को
किसे मिल रहा है विश्राम
भागा दौड़ी मची हुयी है
कुछ बैठे जपते हैं नाम,
बनेगा क्या अब लगी हैं चिंता
सोचें बस यही सुबह और शाम
बने किताबी कीड़ा हैं सब
छोड़ के देखो सारे काम।

पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग की ये बेहतरीन हास्य रचनाएं :-

परीक्षा पर हास्य कविता आप सब को कैसे लगी? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर लिख कर बताएं।

धन्यवाद।

qureka lite quiz

आपके लिए खास:

22 comments

Avatar
Sushant kumar मई 23, 2020 - 11:44 अपराह्न

Bhut kub really funny kabit a

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh मई 27, 2020 - 2:11 अपराह्न

धन्यवाद सुशांत कुमार जी..

Reply
Avatar
Gourav Patel नवम्बर 25, 2019 - 7:28 अपराह्न

Sir kavita ke ras par bhi kavita banayo. Ham Sab ko ras yaad karne me aacha hoga

Reply
Avatar
Tasneem नवम्बर 21, 2019 - 6:04 अपराह्न

Who is poet of this poem

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh नवम्बर 21, 2019 - 6:10 अपराह्न

I'm the poet of this poem….

Reply
Avatar
Vandana aggarwal अक्टूबर 15, 2019 - 4:02 अपराह्न

Nice poem for school students

Reply
Avatar
Arti sachan सितम्बर 27, 2019 - 6:07 अपराह्न

Bahut accha likhte ho

Reply
Avatar
Shweta सितम्बर 3, 2019 - 8:39 अपराह्न

Funny poem✨???? ???? ????
????????????????????
????????????????????????????
????????????????????????????
????????????????????????????
????????????????????????????
????????????✔????????????
????????????????????????????
????????????????????????????????
????????????????????????????
????????????????????????????
????????????????????????????
????????????????????????????
????????????????????
???? ????

Reply
Avatar
Ujjwal rautela जुलाई 19, 2019 - 5:43 अपराह्न

Nice ???? poem maja hi aa gaya parkar

Reply
Avatar
Anjali जून 27, 2019 - 1:05 अपराह्न

बहुत ही मज़ेदार

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh जुलाई 16, 2019 - 2:56 अपराह्न

धन्यवाद अंजली…

Reply
Avatar
Mansimran अक्टूबर 22, 2018 - 10:34 अपराह्न

Very very funny

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अक्टूबर 24, 2018 - 10:42 पूर्वाह्न

Thanks Mansimran ji..

Reply
Avatar
लोकेश इंदौरा अक्टूबर 6, 2018 - 9:00 अपराह्न

अच्छा लिखे हो संदीप जी, हिंदी हास्य कवितायें पढ़ने व लिखने का हमें भी जुनून है जो आप स्वयं देख या पढ़ सकते हैं।

Reply
Avatar
Disha अक्टूबर 1, 2018 - 6:37 अपराह्न

Mst h bhai,????☺️☺️☺️☺️

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अक्टूबर 1, 2018 - 7:37 अपराह्न

Thanks…

Reply
Avatar
Ayush मई 15, 2018 - 7:59 अपराह्न

Outstanding spontaneous and hilarious poems.

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh मई 15, 2018 - 9:39 अपराह्न

Thanks Ayush Bro….

Reply
Avatar
RN kaushal अप्रैल 5, 2018 - 6:56 अपराह्न

मुझे अच्छा लगा nice poem

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh अप्रैल 11, 2018 - 9:37 अपराह्न

धन्यवाद RN kaushal ji…

Reply
Avatar
Archana saxena फ़रवरी 22, 2018 - 11:01 अपराह्न

सिर में ऐसी दर्द छिड़े है
भगा सके न झंडू बाम,bahut badhia likha he sandeepji.school ke din yaad aa gaye.

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh फ़रवरी 24, 2018 - 1:53 अपराह्न

धन्यवाद अर्चना जी।

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More