Home » हिंदी कविता संग्रह » प्रेरणादायक कविताएँ » [Video] मंजिल तो मिल ही जायेगी – रुकी रुकी सी जिंदगी के लिए मोटिवेशनल कविता

[Video] मंजिल तो मिल ही जायेगी – रुकी रुकी सी जिंदगी के लिए मोटिवेशनल कविता

by Sandeep Kumar Singh

जब जिंदगी में कठिनाइयाँ और परेशानियाँ अपना घर बना लेती हैं तो न जाने क्यों हम इतनी खूबसूरत जिंदगी के महत्व को न समझ कर उन परेशानियों को अपने ऊपर हावी होने देते हैं। जबकि हमें इन सब से विचलित न होते हुए निरंतर जीवन में आगे बढ़ते रहना चाहिए। मंजिल भले ही दूर हो लेकिन एक-एक छोटे कदम से एक दिन रास्ते जरूर ख़तम हो जाते हैं। जरूरत होती है तो बस एक कदम बढ़ने की जो जब चले तो बिना मनिल पर पहुंचे कभी रुके नहीं। इसी पहले कदम को बढाने के लिए प्रेरित करने के लिए हमने ये कविता लिखी है :- ‘ मंजिल तो मिल ही जायेगी ‘ आशा करते हैं आपको यह कविता जरूर कुछ प्रेरणा देगी।

मंजिल तो मिल ही जायेगी

प्रेरणादायक गीत : मंजिल तो मिल जायेगी | Motivational Song | Prernadayak Geet in Hindi

आशा करते हैं आपको इस कविता से प्रेरणा मिली हो और आप जिंदगी को नए नजरिये से देखें। आप अपने विचार कमेंट बॉक्स के जरिये हम तक जरूर पहुंचाएं। 

पढ़िए और भी प्रेरक कविताएँ :-

धन्यवाद।

You may also like

11 comments

Avatar
Vimla January 31, 2019 - 10:43 PM

Nice one ????

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh February 1, 2019 - 8:09 PM

धन्यवाद विमला जी…

Reply
Avatar
Durga January 27, 2019 - 5:50 PM

Bhot he khoobsurat kavitaa h…….. Well done

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh January 30, 2019 - 8:46 PM

धन्यवाद दुर्गा जी….

Reply
Avatar
Dilkewords September 20, 2018 - 11:47 AM

waah bahut prerak kavita hai

Reply
Avatar
anjum September 6, 2017 - 9:12 PM

Very nice poem sandeep….. Good job.. Write Carry on ur poem

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 7, 2017 - 4:59 AM

Thank you very much Anjum to appreciate my work. Keep visiting here ☺ and thanks again.

Reply
Avatar
Pramod Kharkwal January 29, 2017 - 1:37 PM

Very nice poem.. thanks for sharing

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh January 29, 2017 - 2:44 PM

Thank you very much Pramod kharkwal ji…..

Reply
Avatar
HindIndia January 28, 2017 - 11:02 PM

बहुत ही बढ़िया poem लिखा है आपने। ……..Share करने के लिए धन्यवाद। :) :)

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh January 29, 2017 - 10:19 AM

बहुत-बहुत धन्यवाद HindIndia जी…..

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More