Home » हिंदी कविता संग्रह » गीत गजल और दोहे » नारी शक्ति पर दोहे :- महिला दिवस और नारी के सम्मान में दोहे

नारी शक्ति पर दोहे :- महिला दिवस और नारी के सम्मान में दोहे

by Sandeep Kumar Singh

नारी के सम्मान में नारी शक्ति पर दोहे । नारी जिसके बिना संसार की कल्पना भी नहीं की जा सकती। वही इस संसार के प्रत्येक मनुष्य को जन्म देती है। एक वृक्ष की भांति कई रिश्तों को जन्म देती है। नारी कभी माँ तो कभी पत्नी है। कभी बहन तो कभी पुत्री है। नारी के अनेकों रूप हैं। हर रूप में नारी सम्माननीय है। आज के समय में तो नारी हर क्षेत्र में पुरुषों की बराबरी कर रही है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर समर्पित है उन्हीं नारियों को यह दोहावली “ नारी शक्ति पर दोहे “

नारी शक्ति पर दोहे

नारी शक्ति पर दोहे

1.
नारी माता, बहन है , नारी जग का मूल ।
नारी चंडी रूप है, नारी कोमल फूल ।।

2.
बिन नारी बनता नहीं, एक सुखी परिवार ।
नारी को सम्मान दो, यह उसका अधिकार ।।

3.
नारी से घरबार है, है रिश्तों में जान ।
सबको करना चाहिए, नारी का सम्मान ।।

4.
नारी लक्ष्मी, शारदा, नारी दुर्गा रूप ।
नारी दुख को सुख करे, नारी शक्ति अनूप ।।

5.
नारी शिशु को जन्म दे, करे जगत विस्तार ।
नारी माता रूप में, स्वयं ईश अवतार ।।

6.
नारी से घर स्वर्ग है, रहता प्रभु का वास ।
विपदा सारी दूर हो, जीवन में उल्लास ।।

7.
अबला से सबला हुई, देखो नारी आज ।
नारी के सहयोग से, उन्नत बने समाज ।।

8.
नारी के गुणगान से, भरा हुआ इतिहास ।
बिन नारी संभव नहीं, होना जगत विकास ।।

9.
माँ बन कर आशीष दे, पत्नी बन दे साथ ।
नारी बहना बन सदा, डोरी बांधे हाथ ।।

10.
जग में जो करता नहीं, नारी का सम्मान ।
उसको नर कहना नहीं, वह है पशु समान ।।

11.
नारी से पारिवार है, नारी से संसार ।
नारी जग का मूल है, जीवन का आधार ।।

महिला दिवस को समर्पित दोहे का विडियो यहाँ देखें :-

नारी शक्ति पर दोहे | महिला दिवस और नारी के सम्मान में दोहे | Nari Shakti Par Dohe On Women's Day

” महिला सशक्तिकरण पर दोहे ” के बारे में अपने विचार हम तक जरूर पहुंचाएं।

पढ़िए नारी को समर्पित यह बेहतरीन रचनाएं :-

धन्यवाद।

You may also like

1 comment

Avatar
Sidharth kishor April 24, 2020 - 1:22 PM

sir एक दोहा जो की आधा पता ःहै कभी आने पुरुष दे प्रीतदी बात की ँमुख्जोर ये पुरा दोहा अर्थ के साथ ःहोमै
hindi

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More