Home » हिंदी कविता संग्रह » हिंगलिश Poem – जनता का GOD | Hinglish Poem – Janta Ka God

हिंगलिश Poem – जनता का GOD | Hinglish Poem – Janta Ka God

by Sandeep Kumar Singh

आप पढने जा रहे हैं वर्तमान में दुनिया की परिस्थिति को एक सुन्दर कविता के रूप में बताती, हिंदी और अंग्रेजी शब्दों के तालमेल से लिखी गयी एक बेहतरीन हिंगलिश Poem – जनता का GOD

हिंगलिश Poem – जनता का GOD

हिंगलिश Poem - जनता का GOD

सीधी साधी जिंदगी में
बहुत उतार-चढ़ाव आए हैं,
महसूस किया है मैंने
बहुत बदलाव आए हैं।
पगडंडी बन गई Road है
अब 
शरीफ बन गए Fraud हैं।
दो वक्त की रोटी दे दे जो
जनता के लिए वो God है।

आवाज गरीब की दब गई है
पैसे की खनक अब Loud है।
हो जाती हालत पतली है
फिर भी न मिलता Shroud है।
भूखे मरना Common है यहाँ
आवाज उठाना Odd है।
दो वक्त की रोटी दे दे जो
जनता के लिए वो God है।

बदल गया Culture अपना
पिता बन गए Dad हैं।
Fast हुई अब Generation
Manners अपनाते Bad हैं।
अपने बड़े बुजुर्ग बने अब
घर के Security Guard हैं।
दो वक्त की रोटी दे दे जो
जनता के लिए वो God है।



नई नई है Techno-logy
जो Use करें अब CAD हैं।
बड़े सयाने बनते सब
Internet की  चढी़ अब Fad है।
Phone नहीं दुनियादारी भी
अब रहती On Silent Mode है।
दो वक्त की रोटी दे दे जो
जनता के लिए वो God है।

है “अर्क” परेशान कि हालत
दुनिया की हो रही Dead है।
कोशिश जो की समझाने की
सब कहते हैं ये Mad है।
मेहनत करनी ही पड़ती है
सफलता का न कोई Code है।
दो वक्त की रोटी दे दे जो
जनता के लिए वो God है।


ये ” हिंगलिश Poem – जनता का GOD ” आपको कैसी लगी? इस कविता के बारे में अपने अनमोल विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें

धन्यवाद

You may also like

6 comments

Avatar
ritika November 28, 2018 - 9:20 PM

apka youtube channel hai kya

Reply
Chandan Bais
Chandan Bais November 29, 2018 - 9:46 AM

Ji Haan, Aap Is Link Se Dekh Sakte Hai, https://www.youtube.com/c/apratimblog

Reply
Avatar
Pramod Kharkwal December 28, 2016 - 10:48 PM

Very interesting….

Reply
Mr. Genius
Mr. Genius December 29, 2016 - 9:42 AM

Thank you Parmod kharkwal ji

Reply
Avatar
Karan Sehmi May 6, 2016 - 3:12 PM

Hi Very interesting stories

Reply
Avatar
Mr. Genius May 6, 2016 - 4:04 PM

Thanks Karan Sehmi

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More