Home शायरी की डायरीदेशभक्ति-देशहित हिंदी दिवस पर शायरी :- हिंदी भाषा में शायरी | Hindi Diwas Shayari in Hindi

हिंदी दिवस पर शायरी :- हिंदी भाषा में शायरी | Hindi Diwas Shayari in Hindi

by Sandeep Kumar Singh

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है

हिंदी भारत की राजभाषा है। आज बहुत अफ़सोस की बात है कि सारे भारत में को एक साथ जोड़ने वाली भाषा हमारे देश की राष्ट्रभाषा न बन कर बस एक राजभाषा के रूप में ही हमारे साथ है। हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए बहुत प्रयास किये गए लेकिन अपने ही कुछ लोगों के कारण यह राष्ट्रभाषा न बन सकी। 14 सितम्बर 1949 को हिंदी को हमारी राजभाषा घोषित किया गया। तब से हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी क्रम में हम आपके लिए लेकर आये हैं हिंदी भाषा के सम्मान और हिंदी दिवस को समर्पित हिंदी दिवस पर शायरी संग्रह :-

हिंदी दिवस पर शायरी

हिंदी दिवस पर शायरी

1.
सारा जहाँ ये जानता है
ये ही हमारी पहचान है,
संस्कृत से संस्कृति हमारी
हिंदी से हिंदुस्तान है।

2.
जिसमें हैं मैंने ख्वाब बुने
जिससे जुड़ी मेरी हर आशा है,
जिससे है मुझे पहचान मिली
वो मेरी हिंदी भाषा है।

3.
पिता की डांट से माँ की लोरियों तक
स्कूल की किताबों से यारों की टोलियों तक,
जिनसे जो कुछ भी मैंने पाया है
हिंदी भाषा ने इन सब में अपना किरदार निभाया है।

4.
जब भी होता ये दिल भावुक
और ये जुबान लड़खड़ाती है,
ऐसे समय में बस अपनी
मातृभाषा ही काम आती है।

5.
हमारी एकता और अखंडता ही
हमारे देश की पहचान है,
हिन्दुस्तानी हैं हम और
हिंदी हमारी जुबान है।

6.
भारत के हर एक कोने को
आपस में जो साथ मिलाये,
संपर्क सूत्र का काम करे जो
वो भाषा हिंदी कहलाये।

7.
जिससे जुड़े हैं सपने मेरे
जिससे जुड़े हुए अरमान,
हिंदी बस भाषा नहीं
हिंदी है मेरी जान।

8.
हिंदी आशीर्वाद सी है
अंग्रेजी एक आफत है,
हिंदी मात्र भाषा नहीं
हिंदी हमारी विरासत है।

9.
बदलेंगे हालात हमारे
ये धरा भी मुस्कुराएगी,
जन-जन की भाषा हिंदी जब
दिल से अपनाई जाएगी।

10.
देश बढ़ेगा आगे यदि
सबकी आशा एक हो,
मत भी सबका एक हो
भाषा भी सबकी एक हो।

11.
बिछड़ जायेंगे हमारे अपने हमसे
अगर अंग्रेजी टिक जाएगी,
मिट जायेगा वजूद हमारा
अगर हिंदी मिट जाएगी।

12.
सम्मान जो खोया है इसने
हमें उसको वापस लौटाना है,
अस्तित्व न खो दे अपना ये
हिंदी को हमें बचाना है।

13.
विविधताओं से भरे इस देश में
लगी भाषाओं की फुलवारी है,
जिसमें हमको सबसे प्यारी
हिंदी मातृभाषा हमारी है।

14.
बिन इसके अधूरा हूँ मैं
मेरी हालत ऐसी है,
इसके बिना मेरा क्या जीवन
हिंदी मेरी माँ जैसी है।

हिंदी  दिवस के इस शायरी संग्रह का विडियो यहाँ देखें :-

Hindi Diwas Par Shayari | हिंदी दिवस पर शायरी | हिंदी भाषा पर शायरी | Shayari On Hindi Language

पढ़िए हिंदी दिवस से संबंधित यह बेहतरीन रचनाएं :-

हिंदी दिवस पर शायरी संग्रह के बारे में अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं।

धन्यवाद।

qureka lite quiz

आपके लिए खास:

15 comments

Avatar
Archana Kumari September 19, 2019 - 8:16 PM

Bahut achha hum to kahenge ossum, best, super aise chije bhejte rahiye

Reply
Avatar
Subhash Shastri September 13, 2019 - 11:17 PM

बहुत ही सुंदर प्रयास है , अच्छी लगी l

Reply
Avatar
Ayush Singh September 7, 2019 - 9:51 PM

Super

Reply
Avatar
अपर्णा म.खेडकर July 15, 2019 - 12:46 PM

अपर्णा खेडकर
धन्यवाद अपनी भाषा के प्रति इतना प्यार देखकर मन प्रसन्न हुआ । इस तरह का प्रयास सब करते रहे तो वो दिन दूर नहीं हिंदी सबकी बिंदी जरुर बनेगीं।

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh July 16, 2019 - 3:33 PM

जी बिलकुल अपर्णा जी…मिलकर प्रयास किया जाये तो हर कार्य संभव है…

Reply
Avatar
जीवन ठाकुर January 17, 2019 - 10:18 PM

श्रीमान जी बहुत ही अछी कविताएं ओर शायरी
हमारी रास्ट्र भासा मैं जो बहुत ही अछी लगी

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh January 21, 2019 - 8:02 PM

धन्यवाद जीवन ठाकुर जी…..

Reply
Avatar
Ayush Patankar September 18, 2018 - 8:13 PM

आपकी कविता और शायरी बहुत अच्छी है

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 20, 2018 - 9:20 PM

धन्यवाद आयुष जी।

Reply
Avatar
Uday Kumar Singh September 15, 2018 - 9:18 AM

हिंदी पर कविता पढ़ कर बहुत ही अच्छा लगा आप इसी तरह अपनी भाषा अपनी देश हित अपने कलम से लिखते रहिए हमारी शुभकामनाएं आपके साथ है

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 16, 2018 - 11:31 AM

धन्यवाद उदय कुमार सिंह जी। बस आपका प्यार इसी तरह बना रहे तो ये कलम भी ऐसे ही चलती रहेगी। धन्यवाद।

Reply
Avatar
Ayush September 13, 2018 - 9:48 PM

Not so good

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 16, 2018 - 11:32 AM

Thanks to you that you read this……

Reply
Avatar
भानु प्रिया September 10, 2018 - 8:35 AM

, बहुत बहुत बढ़िया। एक अच्छी पहल।

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh September 10, 2018 - 12:56 PM

धन्यवाद भानु प्रिय जी।

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More