Home हिंदी कविता संग्रहरिश्तों पर कविताएँ गुरु पूर्णिमा पर कविता | गुरु के लिए कविता | Poem On Guru Purnima In Hindi

गुरु पूर्णिमा पर कविता | गुरु के लिए कविता | Poem On Guru Purnima In Hindi

by ApratimGroup

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है

Poem On Guru Purnima In Hindi ( गुरु के लिए कविता ) – महान कौन नही बनना चाहता? लेकिन महान बनने के लिए इन्सान को ज्ञान की आवश्यकता होती है, जो हमें मिलता है गुरु से। दोस्तों हर सफल इन्सान के जीवन में गुरु का एक अति विशिष्ट स्थान होता है। हमारे हिन्दू धर्म में तो गुरु के स्थान को भगवान से भी ऊँचा बताया गया है। इसी सदर्भ में गुरु की महिमा का वर्णन करता ये कविता हम आपके सामने गुरु पूर्णिमा और शिक्षक दिवस के लिए गुरु की महिमा पर कविता पेश कर रहे है।

Poem On Guru Purnima In Hindi
गुरु पूर्णिमा पर कविता

गुरु पूर्णिमा पर कविता

गुरु तेरे ज्ञान से बना हूँ मैं विद्वान,
तेरे आदर्शों पर चल कर बनना है महान,
मेरे अँधेरे जीवन में ज्ञान की ज्योत जलाई,
सिखलाया आपने मुझे नेकी और भलाई,
बताया आपने ही सफलता कैसे पाना है,
कितना ही ऊँचा चला जा, अभिमान कभी न करना है,
गुरु तेरे चरणों की धूल माथे पर सजाना है,
तेरे दिए उपदेशो को जग में फैलाना है,
कमजोरो-दुखियो को नेकी का करके दान,

गुरु तेरे ज्ञान से बना हूँ मैं विद्वान,
तेरे आदर्शों पर चलके बनना है महान।

हर मुश्किल घड़ी में धीरज रखना सिखाया था,
संसार के सारे जीवों से प्रेम भाव जगाया था,
गिरे को उठाना प्यासे को पानी,
ये सारी बाते सुने मैंने गुरु तेरे ही वानी,
प्रेम दया और करुणा का पाठ मुझे पढ़ाया था,
गुरु तुम ही ईश्वर हो तब समझ मै पाया था,
मन से लालच-लोभ मिटा कर,
पुण्य का नाम बढ़ाना आज हमने लिया है जान,

गुरु तेरे ज्ञान से बना हूँ मै विद्वान,
तेरे आदर्शो पर चलके बनना है महान।

धरती पर जब मैंने जनम लिया,
माँ बाप ने मुझे नाम दिया,
पर तेरे ज्ञान से ही समझ मै पाया था,
क्या बुरा क्या भला सारे भेद बतलाया था,
तेरे ज्ञान के प्रकाश से ही राह मैंने पाया था,
जिसने मुझे जीवन की मंजिल पार कराया था,
तेरे हर एक-एक वाणी को सलाम,
ऐ मेरे महान गुरु तुझको सत-सत प्रणाम,
ऐ मेरे महान गुरु तुझको सत सत प्रणाम।

गुरु तेरे ज्ञान से बना हूँ मै विद्वान,
तेरे आदर्शो पर चलकर बनना है महान।

पढ़िए गुरु भक्ति से जुड़ी अन्य रचनाएं :-


angeshwar bais

गुरु की महिमा का बखान करती गुरु पूर्णिमा पर कविता ( Poem On Guru Purnima In Hindi ) को हमें भेजा है अंगेश्वर बैस ने जो छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में रहते है। अंगेश्वर बैस जी कविता और गीत लिखने के शौक़ीन है। हमारे ब्लॉग में ये उनकी पहली कविता है। और आगे भी हमारे पाठको को उनकी कुछ बेहतरीन कविताएँ हमारे ब्लॉग में पढ़ने को मिल सकती है।

अगर आपको गुरु की महिमा पर कविता पसंद आयी, तो इसे शेयर करना ना भूलें ।

धन्यवाद।


Pic from: Prabhasakshi

आगे क्या है आपके लिए:

qureka lite quiz

आपके लिए खास:

8 comments

Avatar
shiv March 30, 2020 - 8:40 PM

Truly Teachers are the ones who shape our future.

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh April 7, 2020 - 6:22 PM

Absolutely Right Shiv

Reply
Avatar
kana ram July 27, 2018 - 10:52 AM

bahut khoob sir

Reply
Sandeep Kumar Singh
Sandeep Kumar Singh July 28, 2018 - 9:15 AM

Thanks Kana Ram ji..

Reply
Avatar
Hemlal April 12, 2018 - 2:40 PM

bahut Sundar vichar Dete Hain aap log Hum Aapke Sabhi vicharon ko padte hai

Reply
Avatar
Priyanshu Kumar August 5, 2017 - 8:03 PM

Teachers are the best men of world

Reply
Avatar
Banshi July 9, 2017 - 10:13 AM

Mere Gurujio ko koti koti pranam.. mom,dad aur mere sabhi teachers..

Reply
Avatar
ashutosh June 30, 2017 - 1:53 AM

हरि (भगवान्) और गुरु में कोई भेद नहीं है!!

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More