Home विविध हमारी वर्तमान शिक्षा पद्धति की कमियाँ बनाम फ़िनलैंड की शिक्षा पद्धति

हमारी वर्तमान शिक्षा पद्धति की कमियाँ बनाम फ़िनलैंड की शिक्षा पद्धति

by Chandan Bais

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है

शिक्षा हमारे जीवन के लिए कितना आवश्यक है ये तो हम सब जानते है। लेकिन क्या आपको पता है पढ़ाई-लिखाई का तरीका सही होना उससे भी ज्यादा आवश्यक है। दुनिया में जितने भी देश है उनका अपना एक एजुकेशन सिस्टम होता है जिसे हिंदी में हम शिक्षा पद्धति कहते है। यही एजुकेशन सिस्टम शिक्षा के गुणवत्ता को निर्धारित करता है। दुनिया में बहुत से ऐसे देश है जिनके शिक्षा व्यवस्था बहुत ही गुणवत्ता पूर्ण है। उनमें से एक देश है फ़िनलैंड।


अगर आपको पढ़ना पसंद है तो पढ़ना जारी रखे, या फिर ये विडियो देखे:


फ़िनलैंड का एजुकेशन सिस्टम दुनिया में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। दूसरी ओर हमारा देश भारत है। जो फ़िनलैंड के शिक्षा व्यवस्था के सामने कहीं नही टिकता। लेकिन आखिर ऐसा क्यों है? भारत देश जिसे हम विश्व गुरु कहते है। जो सबसे प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक है। भगवद् गीता जैसे अध्यात्मिक ग्रन्थ के साथ-साथ ना जाने कितने ही ज्ञान के भंडार हमारे देश में भरे हुए है। इसके बावजूद एक छोटा सा देश जो हमारे सामने ना तो आकार में टिक सकता है ना जनसँख्या में। फिर शिक्षा व्यवस्था के मामले में हम उनके सामने पानी भी नही भर सकते। आखिर ऐसा क्यों?? इन्ही सब बातों पर एक तुलनात्मक चर्चा हम इस लेख में करेंगे।

हमारी वर्तमान शिक्षा पद्धति बनाम फ़िनलैंड की शिक्षा पद्धति

हमारी वर्तमान शिक्षा पद्धति बनाम फ़िनलैंड की शिक्षा पद्धति

१. शिक्षा व्यवस्था की शुरुवात :

शिक्षा और ज्ञान के क्षेत्र में भारत का इतिहास गौरवपूर्ण रहा है। प्राचीन भारत में गुरुकुल शिक्षा व्यवस्था प्रचलित था। और चाणक्य के समय में नालंदा के तक्षशिला विश्वविध्यालय के बारे में कौन नही जानता। लेकिन हमारा वर्तमान दुखदायी कहा जा सकता है।

अभी जो एजुकेशन सिस्टम हमारे देश में चल रहा है, वो दरअसल अंग्रेजो के द्वारा लागू की गई शिक्षा व्यवस्था है। इसे मैकॉले शिक्षा व्यवस्था भी कहा जाता है। जिसे अंग्रेजो ने हमारे देश में सन १८३५ में लागू किया था। ताकि यहाँ के युवाओं को अपने फैक्ट्री में क्लर्क और दूसरे काम करने लायक बनाया जा सके। लेकीन दुःख की बात तो ये है की आजादी के इतने साल बाद भी हम अंग्रेजो द्वारा लागू की गई शिक्षा व्यवस्था को ही चला रहे है।

वहीं अगर बात करे फ़िनलैंड की तो, सन १८६० तक तो वहाँ पब्लिक एजुकेशन की कोई व्यवस्था भी नहीं थी। अब तक यहाँ चर्च में ही पढ़ाया जाता था। तभी वहाँ के नेशनल चर्च के प्रमुख के दिमाग में ये आईडिया आया कि अगर सारे लोग पढ़ना सीख जायेंगे तो अपनी मातृभाषा में बाइबिल पढ़ सकेंगे। इसके 6 साल बाद सन १८६६ में चर्च से स्वतंत्र एक नेशनल स्कूल सिस्टम बनाया गया।*

२. शिक्षा सबके लिए – एजुकेशन फॉर आल:

कोई पीछे ना रह जाये वाली मानसिकता के साथ फ़िनलैंड में एजुकेशन फॉर आल का सिस्टम चलता है। मलतब की यहाँ शिक्षा सबके लिए सामान और फ्री में उपलब्ध है। स्कूल के बाद कॉलेज की भी पढ़ाई फ्री है। स्कूल में तो पढ़ाई के लिए जरुरी सभी चीजें स्कूल की तरफ से विद्यार्थियों को फ्री में उपलब्ध करवाई जाती हैं।

हमारे यहाँ शिक्षा सबके लिए सिर्फ कागजों में उपलब्ध है। असल में तो यहाँ भेदभाव से पूर्ण शिक्षा दी जाती है। सरकारी कॉलेज में जाति के हिसाब से सीट रिज़र्व होते है। और उसके हिसाब से ही एडमिशन दिया जाता है। यहाँ स्टूडेंट ज्यादा और कॉलेज कम हैं।  हर साल हजारों स्टूडेंट को एडमिशन सिर्फ इसलिए नहीं मिल पाता क्योंकि अधिकतर कॉलेज में स्टूडेंट्स क्षमता से अधिक होते है।

अगर फ्री शिक्षा की बात करें तो कुछ सालों से कुछ राज्यों की सरकार ने सरकारी प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा को फ्री किया है। बच्चों को किताबें और यूनिफार्म भी वितरित की जाती हैं। लेकिन अधिकतर जगहों में घोटाले किये जाते है। स्कूल वाले भी किसी ना किसी बात के लिए बच्चों से पैसे मंगाते ही रहते है।



३. सरकारी स्कूल प्राइवेट स्कूल:

कुछ दशकों से हमारे देश में सरकारी स्कूल के बजाय प्राइवेट स्कूल में पढ़ने का फैशन बना है। सरकारी स्कूल में सरकारी शिक्षकों और सरकारी लचर व्यवस्था के कारन पढ़ाई की हालत औंधे मुँह गिर पड़ी है। जिसके कारन हर कोई चाहता है की उनके बच्चे प्राइवेट स्कूल में पढ़े।

प्राइवेट स्कूल में दिए जाने वाली सुविधाए और विज्ञापनों से पालक आकर्षित हो जाते है। लेकिन प्राइवेट स्कूल में मोटी फीस होने के कारन हर कोई अपने बच्चे को वहां एडमिशन नहीं दिलवा पाते। अधिकतर प्राइवेट स्कूलों में पैसे वाले घर के बच्चे ही पढ़ते है। हालत ये है की सरकार ने प्राइवेट स्कूलो में कुछ प्रतिशत सीटों को गरीब बच्चों के लिए आरक्षित कर रखा है। जिसमे एडमिशन लेने के लिए भी लोगो को अपनी गरीबी का प्रमाण देना पड़ता है।

दूसरी तरफ फ़िनलैंड है, जहां सारी सुविधाएँ और शिक्षा पूरी तरह फ्री है और सरकारी स्कूलो में पढ़ाई की गुणवत्ता इतनी अच्छी है की हर कोई सरकारी स्कूल में ही अपने बच्चे को पढ़ाना चाहता है। बड़े अमीर लोगो से लेके गरीब तक के बच्चे सब एक ही साथ एक ही कक्षा में पढ़ते है। प्राइवेट स्कूल में कोई दाखिला ही नही लेता इसलिए वहाँ प्राइवेट स्कूल ही नही है।

4. सही उम्र में सही शिक्षा:

हमारे देश में बाल मजदूरी कानूनन अपराध है, फिर भी स्कूलो पर कोई कारवाई क्यों नही होता जो 4-5 साल के बच्चों को १०-१० किलो वजनी बस्ते ढोने पे मजबूर करता है। हमारे यहाँ बच्चा जैसे-तैसे तीन साल की उम्र में पहुँचता है और उसे 5-१० किलो वजन के बस्ते के साथ स्कूल भेज दिया जाता है। जिस समय बच्चे को खेलने-कूदने और शारीरक विकास होना होता है उस समय यहाँ उसे स्कूल भेज के घंटो-घंटो तक बैठे रहने पे मजबूर किया जाता है। जब तक बच्चा ७ साल की उम्र में पहुँचता है उसकी रचनात्मकता आधी हो जाती है और वो रटने में माहिर होने वाला होता है।

वहीं बात अगर फ़िनलैंड की करें तो ७ साल की उम्र से पहले तक किसी भी बच्चे को स्कूल में एडमिशन नहीं दिया जाता। ७ साल से पहले किसी बच्चे की फॉर्मल एजुकेशन स्टार्ट नहीं होती। ७ साल से कम उम्र के बच्चों के लिए डे-केयर और प्री-स्कूल होते हैं, लेकिन वहां पढाई नहीं करवाई जाती। बल्कि बच्चों को खेलने-कूदने और शारीरिक विकास करने का मौका दिया जाता है। साथ ही उन्हें दूसरे बच्चों के साथ कम्युनिकेशन करना, रिलेशन बिल्ड करना दूसरों को समझना जैसी चीजें सिखाई जाती है। प्री-स्कूल में भी पढ़ाई नही होता बल्कि स्कूल के माहोल के लिए बच्चों को मानसिक रूप से तैयार किया जाता है। ताकि जब बच्चा अपना स्कूल और पढ़ाई शुरू करे तो उसे एक जबरदस्त शुरुवात मिले।



5. लेस इज मोर:

फ़िनलैंड में लेस इज मोर (कम ही ज्यादा है) के सिद्धांत को मानते है। अर्थात उनके स्कूल में बच्चे हफ्ते में सिर्फ २० घंटे ही पढ़ाई करते है। मतलब किसी दिन ३ घंटे तो दिन 4 घंटे का ही स्कूल होता है। और इनमे लंच ब्रेक भी शामिल होता है। कोई भी लेक्चर ४५ मिनट से ज्यादा का नहीं होता। और हर ४५ मिनट के बाद बच्चों को कम से कम 15 मिनट का ब्रेक दिया जाता है।

कम समय देने का इनका उद्देश्य ये है की बाकि समय में बच्चे खेले-कूदें, सोशल एक्टिविटी में शामिल हो, फैमिली के साथ समय बिताएं, अपने मनपसंद काम करें जैसे की कुकिंग, सिंगिंग, पेंटिंग आदि। इतना ही समय टीचर भी लगाते है पढ़ाने में। एक्स्ट्रा समय में वो लोग आगे के सिलेबस की प्लानिंग करते है और हर हफ्ते कुछ घंटो का उन्हें टीचर ट्रेनिंग लेना होता है। अब आप लोग सोच रहे होंगे की इतने कम टाइम का स्कूल होता है तो जरुर होमवर्क बहुत सारा होता होगा। लेकिन आश्चर्य की बात ये है की वहां के स्कूल में होमवर्क का कोई सिस्टम ही नहीं है। जो भी पढ़ना होता है वो स्कूल में पढ़ाया जाता है।

हमारे यहाँ एक स्टूडेंट का डेली रूटीन कुछ ऐसा होता है। स्टूडेंट सुबह 5.३० बजे उठता है। फ्रेश होकर ट्यूशन जाता है। २-३ सब्जेक्ट ट्यूशन पढ़के वो ९ बजे तक वापस आता है। नास्ता करके १० बजे स्कूल जाता है। 4 बजे स्कूल से आता है। फिर ट्यूशन को जाता है। ७ बजे ट्यूशन से आता है। १ घंटा होमवर्क करता है। डिनर करता है। फिर २ घंटा होमवर्क करता है। सो जाता है। अगले दिन फिर रिपीट। हमारे यहाँ के स्कूल में टॉप करने वाले बच्चे बताते है की वो दिन में १६-१६ घंटे तक पढाई करते थे। फैक्ट्री में मजदूर भी इतनी मेहनत नही करते यार।

6. कमजोर विद्यार्थी होशियार विद्यार्थी:

फ़िनलैंड दुनिया का ऐसा देश है जहाँ सबसे कमजोर और सबसे होशियार स्टूडेंट के बीच अंतर सबसे कम है। और फ़िनलैंड इस बात के लिए भी जाना जाता है की वहाँ शायद ही कोई स्टूडेंट फेल होता है। वहीँ बात अगर भारत की करें तो यहाँ एक ही कक्षा में २-३ साल तक फेल होने वाले भी मिल जायेंगे और ९९% नंबर लाने वाले भी। मलतब कमजोर और होशियार विद्यार्थी के बीच बहुत ज्यादा अंतर है।

फ़िनलैंड के स्कूलो में कमजोर स्टूडेंट पर विशेष ध्यान दिया जाता है। उनको एवरेज स्तर तक लाने के लिए जरुरत पड़े तो विशेष क्लास में भी भेजे जाते है। हमारे यहाँ कक्षाओं में कमजोर विद्यार्थी को पीछे बैठाया जाता है। और होशियार विद्यार्थियो को आगे। अधिकतर स्कूल और टीचर भी भेदभाव करते है। पढ़ाई में जो आगे होता है उनको पसंद किया जाता है और कमजोर स्टूडेंट को नापसंद किया जाता है। टीचर होशियार स्टूडेंट के पीछे ज्यादा मेहनत करते है और कमजोर को छोड़ देते है। पिछली कक्षाओं के रिजल्ट के हिसाब से इनको अलग अलग ग्रुप बना के अलग-अलग कक्षाओं में पढ़ाये जाते है।

7. परीक्षा का आतंक:

पढ़ाई जीवन के दौरान जो सबसे आतंकित करने वाला चीज होता है वो होता है परीक्षा। हर साल हर विषय के लिए परीक्षा। सरकारी स्कूल में साल में कम से कम ३ बार परीक्षाएं होती हैं। प्राइवेट स्कूलों, कॉलेजों, कोचिंग सेण्टर में हर महीने परीक्षा, हर हफ्ते परीक्षा और सरप्राइज टेस्ट के नाम पर कभी भी परीक्षाएं ले ली जाती हैं। ऐसा लगता है जैसे हमारे स्कूल सिर्फ परीक्षा लेने के लिए बने हैं। फिर स्टूडेंट को नंबर और ग्रेड दे के उनपे लेबल लगा दिया जाता है।



बिना परीक्षा के यहाँ किसी भी क्लास की कल्पना नहीं की जा सकती। यहाँ तक की KG१ जैसे कक्षाओं में भी। एक प्राइवेट स्कूल का विज्ञापन देखे:

हमारी वर्तमान शिक्षा पद्धति प्राइवेट स्कूल विज्ञापन

दिवार पर लगा हुआ एक प्राइवेट स्कूल का विज्ञापन के.जी. 1 के विद्यार्थियों का परीक्षाफल दिखाते हुए

फ़िनलैंड का एजुकेशन सिस्टम बहुत ही ज्यादा चौंकाने वाला है परीक्षा के मामले में। क्या आप यकीन करेंगे अगर मैं ये कहूं की फ़िनलैंड के स्कूलों में परीक्षा नहीं लिया जाता। किसी कक्षा में नही। एक भी परीक्षा नहीं। जी हाँ, फ़िनलैंड में शिक्षा व्यवस्था ऐसी है की वहां पूरे ९ साल के बेसिक एजुकेशन के दौरान एक भी बार परीक्षा नहीं ली जाती। सीधे हाई स्कूल के बाद मात्र एक ही परीक्षा होता है जो की नेशनल लेवल की होती है और कॉलेज में एडमिशन पाने के लिए ये परीक्षा पास करना जरुरी होता है।



8. शिक्षक का पेशा:

पहले हमारे संस्कृति में गुरु को भगवान् से भी बढ़के माना जाता था। आज के गुरु वो गुरु नहीं रहे। शिक्षक और शिक्षाकर्मी बन गये है। शिक्षा का स्तर नीचे गिरने में अधिकतर हाथ इन शिक्षक और शिक्षाकर्मियों का भी है(सभी नहीं, बहुत से अच्छे शिक्षक भी यहाँ हैं जो बहुत अच्छा काम कर रहे हैं लेकिन ऐसे अपवाद बहुत कम है)। बहुत कम ही शिक्षक हैं जो दिल से शिक्षक बनते हैं। अधिकतर लोग कहीं और नौकरी ना मिलने पर शिक्षक बन जाते है। फिर वहां बस अपना ड्यूटी निभाते है। जरा ये देखे:

शिक्षक कक्षा में सोते हुए

अपनी क्लास के बच्चो को बढ़ाते एक शिक्षाकर्मी

हमारे राज्य छत्तीसगढ़ में तो शिक्षाकर्मी हर साल स्कूल सत्र के बीच में स्कूल छोड़ के वेतन बढ़ाने और अन्य मांगो को लेकर हड़ताल करतें है। इस दौरान भले ही स्कूल बंद क्यों ना हो जाये। प्राइवेट स्कूल में तो शिक्षकों का शोषण होता है। बहुत ही कम वेतन में उनसे काम करवाया जाता है। कुल मिलाकर नतीजा ये होता है की टीचर्स दिल से और सही तरीके से नहीं पढ़ाते, शिक्षा का स्तर गिरता है और साथ ही समाज में शिक्षक का सम्मान भी।

अगर बात करे फ़िनलैंड की तो, वहां के शिक्षक हमारे शिक्षकों से बहुत अलग होते है। वहां शिक्षक बनना आसान नहीं है। सबसे निचली कक्षाओं में भी पढ़ाने के लिए कम से कम मास्टर डिग्री की पढ़ाई आवश्यक है। इसके बाद उन्हें उच्च स्तर का प्रशिक्षण दिया जाता है। और हर साल उन्हें ऐसे प्रशिक्षणों में शामिल होना होता है। एक शिक्षक का पेशा यहाँ एक डॉक्टर या इंजिनियर के सामान ही सम्माननीय माना जाता है और, इनका वेतन भी अच्छा होता है।

८. शिक्षा एक व्यवसाय:

फ़िनलैंड में शिक्षा बच्चो को एक अच्छे इन्सान के रूप में तैयार करने के साथ-साथ उन्हें एक अच्छा सामाजिक जीवन जीने के लिए तैयार करना है। चूँकि शिक्षा वहां लोगो का मौलिक अधिकार है और मुफ्त है, पैसों की कमी या अधिकता किसी के शिक्षा को दूसरों के शिक्षा से अच्छा या बुरा नहीं बनाता। इसलिए शिक्षा की आड़ में वहाँ कोई बिज़नस या घोटाले नहीं होते। हमारे यहाँ शिक्षा किस तरीके से एक धन्धा और घोटाले करने का तरीका बन गया है वो मैं बताने की कोशिश करता हूँ।

यहाँ प्राइवेट स्कूल के बारे में तो सब जानते है, वहां अपने बच्चे को पढ़ाते-पढ़ाते एक मध्यम वर्ग के इन्सान की कमर टूट जाती है। स्कूल मैनेजमेंट वाले हर साल फीस बढ़ाते है। स्टूडेंट के लिए जितने भी पढ़ाई के सामान चाहिए वो सब स्कूल से ही खरीदना अनिवार्य होता है। चाहे वो किताब हो, नोटबुक, पेन हो, स्कूल बैग के साथ-साथ यूनिफार्म, जूते-मोज़े, टिफ़िन डब्बा तक वहीँ से खरीदना पढ़ता है।

अब कुछ लोग कहेंगे की कहीं से तो खरीदना ही रहेगा इन सामानों को तो स्कूल से ही खरीदने में क्या बुराई है? बुराई ये है की वहाँ मार्किट से ये सामान ३ से 4 गुना ज्यादा महंगा मिलता है। और किसी भी हॉल में वो आपको लेना ही लेना है। इसके बाद बीच-बीच में अलग-अलग प्रोग्राम करवाने के बहाने, बेवजह टेस्ट के बहाने अलग-अलग बहानों से बच्चो से फीस लिए जाते है।

स्कूल में कम पढ़ाई करवाए जाते है, फिर अलग से ट्यूशन देने के नाम पे फिर से पैसे लिए जाते है। और हद तो ये होता है की हर स्टूडेंट को ये ट्यूशन लेने ही होते है। जैसे कोई आदमी अपने घर को बनवाने के लिए एक कांट्रेक्टर को कॉन्ट्रैक्ट देता है वैसे ही यहाँ लोग अपने बच्चों पढ़ा-लिखा और नौकरी पाने लायक बनाने के लिए स्कूल को कॉन्ट्रैक्ट दे देते है।

सरकारी स्कूल में कहने को तो कुछ क्लास तक शिक्षा मुफ्त है लेकिन असल में वो मुफ्त नही होता। अलग-अलग चीजो पर लोगो को पैसे खर्च करने ही पढ़ते है। कॉलेज की तो बात ही अलग होती है। यहाँ बैंक शिक्षा लोन देते है ताकि लोग अपनी कॉलेज की पढ़ाई कर सके। जो चीजे स्कूल में सिखाया जाना चाहिए वो पढ़ने के लिए करोड़ों के ट्यूशन और कोचिंग का बिज़नस यहाँ चलता है।

परीक्षा में पास करवाने के लिए पैसे लिए-दिए जाते है। हमारे यूनिवर्सिटी वालों का तो बहुत ही अलग अंदाज है पैसे कमाने का। पहले एग्जाम होता है तब वो स्टूडेंट को कम नंबर दे देते है। फिर पेपर फिर से चेक करवाने या रीकाउंटिंग करवाने के नाम पर एक विषय के लिए 400-५०० तक फीस लिया जाता है उसके बाद उन्हें पास कर दिया जाता है। सिर्फ इन्ही रीचेकिंग के काम में ही यूनिवर्सिटी करोडो रूपये हर साल कमाते है। और भी ऐसे घोटाले खबरों में आते ही रहते है।

वैसे तो इनके अलावा और भी बहुत सारी बातें है, जिन्हें गिनाई जा सकती है। लेकिन पोस्ट की बढ़ती हुई लम्बाई को ध्यान में रखते हुए मैं इस चर्चा को यहीं पर विराम देता हूँ। लेकिन इसका ये मतलब नही है की हमारे देश में हर जगह कमियां है। बल्कि यहाँ कई ऐसे शिक्षक और विद्यालय भी है जिनका काम काबिले तारीफ है। परन्तु इनकी संख्या इतनी कम है की वो इस सिस्टम के बीच हमें दिखाई नही देते।


*https://www.oph.fi/english/education_system/historical_overview

qureka lite quiz

आपके लिए खास:

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More