Home » रोचक जानकारियां » अफ्रीका महाद्वीप की सामान्य जानकारी :- अफ्रीका से जुड़े कुछ तथ्य और रिकॉर्ड

अफ्रीका महाद्वीप की सामान्य जानकारी :- अफ्रीका से जुड़े कुछ तथ्य और रिकॉर्ड

by Sandeep Kumar Singh

महाद्वीप दो शब्दों के मेल से बना है। महा और द्वीप महा का अर्थ महान या बड़ा और द्वीप का मतलब है ऐसा भूखंड जो चारों तरफ से समुद्र से घिरा हो। इस तरह भूखंड का एक बड़ा भाग जो चारों ओर से समुद्र से घिरा हो महाद्वीप कहलाता है। ऐसे कई महाद्वीप धरती पर पाये जाते हैं। यूँ तो महाद्वीप की संख्या के बारे में बहुत मतभेद हैं लेकिन मुख्यतः जो महाद्वीपों की संख्या है वो 7 मानी गयी है। ये महाद्वीप हैं :- एशिया, अफ्रीका, उत्तरी अमरीका, दक्षिण अमरीका अन्टार्टिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया (ओशीनिया)। इस लेख में हम जानेंगे अफ्रीका महाद्वीप के बारे में

अफ्रीका महाद्वीप

अफ्रीका महाद्वीप

अफ़्रीका जिसे कालद्वीप के नाम से भी जाना जाता है, एशिया के बाद विश्व का सबसे बड़ा महाद्वीप है। महाद्वीप की अधिकांश जनसंख्या आज भी अशिक्षित है, इसी कारण इस महाद्वीप को अन्ध महादेश भी कहते हैं।

अफ्रीका उत्तर में भूमध्यसागर एवं यूरोप महाद्वीप, पश्चिम में अंध महासागर, दक्षिण में दक्षिण महासागर तथा पूर्व में अरब सागर एवं हिन्द महासागर  से घिरा हुआ है। यह पृथ्वी पर सबसे गर्म महाद्वीप है और यही कारण है कि यहाँ की 60% भूमि शुष्क भूमि और रेगिस्तान हैं।

इस महाद्वीप में विशाल मरुस्थल, अत्यन्त घने वन, विस्तृत घास के मैदान, बड़ी-बड़ी नदियाँ व झीलें तथा विचित्र जंगली जानवर हैं। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि इसी महाद्वीप में सबसे पहले मानव का जन्म व विकास हुआ और यहीं से जाकर वे दूसरे महाद्वीपों में बसे, इसलिए इसे मानव सभ्‍यता की जन्‍मभूमि माना जाता है। यहाँ विश्व की दो प्राचीन सभ्यताओं ( मिस्र एवं कार्थेज ) का भी विकास हुआ था।

अफ्रीका के बहुत से देश द्वितीय विश्व युद्ध के बाद स्वतंत्र हुए हैं एवं सभी अपने आर्थिक विकास में लगे हुए हैं। अफ़्रीका अपनी बहुरंगी संस्कृति और जमीन से जुड़े साहित्य के कारण भी विश्व में जाना जाता है।

अफ्रीका महाद्वीप नाम का अर्थ

अफ्रीका महाद्वीप के नाम के पीछे कई कहानियाँ एवं धारणाएँ हैं। 1981 में प्रकाशित एक शोध के अनुसार अफ्रीका शब्द की उत्पत्ति बरबर भाषा के शब्द इफ्री  या इफ्रान  से हुई है जिसका अर्थ गुफा होता है जो गुफा में रहने वाली जातियों के लिए प्रयोग किया जाता था। एक और धारणा के अनुसार अफ्री उन लोगों को कहा जाता था जो उत्तरी अफ्रीका में प्राचीन नगर कार्थेज के निकट रहा करते थे। कार्थेज में प्रचलित फोनेसियन भाषा के अनुसार अफ्री शब्द का अर्थ है धूल । समय के साथ  कार्थेज रोमन साम्राज्य के अधीन हो गया और लोकप्रिय रोमन प्रत्यय -का (-ca जो किसी नगर या देश को जताने के लिए उपयोग में लिया जाता है) को अफ्री  के साथ जोड़ कर अफ्रीका  शब्द की उत्पत्ति हुई।

अफ्रीका का क्षेत्रफल

अफ्रीका महाद्वीप का कुल क्षेत्रफल 30,370,000  वर्ग किलोमीटर है। जो कि सभी महाद्वीपों का 20 प्रतिशत है। यदि बात की जाए महासागरों की भी तो यह महाद्वीप पूरी धरती का 6 प्रतिशत है।

अफ्रीका महाद्वीप की जनसंख्या

सभी महाद्वीपों में एशिया के बाद सबसे ज्यादा आबादी अफ्रीका महाद्वीप में ही बसती है। दुनिया की 16 प्रतिशत आबादी समेटे हुए इस महाद्वीप की कुल आबादी 1.3 अरब है। सभी महाद्वीपों की तुलना में अफ्रीका की सबसे ज्यादा जनसँख्या जवान लोगों की है।

अफ्रीका में कितने देश है

दुनिया के दूसरे सबसे बड़े अफ्रीका महाद्वीप में कुल 54 देश हैं। इन सभी देशों की ख़ास बात यह है कि यहाँ लगभग हर धर्म के लोग रहते हैं। अनेकों भाषाएँ बोली जाती हैं। जो की अफ्रीका को एक विशेष महाद्वीप बनाती हैं।

अफ्रीका महाद्वीप का सबसे बड़ा देश

क्षेत्रफल की दृष्टि से अफ्रीका का सबसे बड़ा देश अल्जीरिया है। इसका कुल क्षेत्रफल 2,381,741  वर्ग किलोमीटर है। पूरे विश्व में भी यह दसवां सबसे बड़ा देश है। वहीं अगर बात की जाए जनसँख्या के आधार पर सबसे बड़े देश की तो लगभग 20.6 करोड़ लोगों की आबादी के साथ यह सबसे बड़ा देश है।

अफ्रीका का सबसे छोटा देश

सेशेल्स ( Seychelles ) क्षेत्रफल और जनसँख्या दोनों ही तरह से अफ्रीका का सबसे छोटा देश है। इसका क्षेत्रफल 298 वर्ग किलोमीटर है और इसकी जनसँख्या 98,462 है। यह हिंद महासागर में स्थित 115 द्वीपों वाला एक द्वीपसमूह राष्ट्र है।

अफ्रीका की सबसे लंबी नदी

अफ्रीका की सबसे लंबी नदी

नील नदी

अफ्रीका में बहने वाले सबसे लम्बी नदी ‘ नील ‘ है। यह नदी  में हैं और ये सिर्फ अफ्रीका की ही सबसे बड़ी नहीं नहीं बल्कि दुनिया की भी सबसे लंबी नदी है। हालाँकि इसमें थोड़ा मतभेद है क्योंकि ब्राज़ील की सरकार अमेज़न को सबसे लम्बी नदी मानती है जिसकी लम्बाई 6575 किलोमीटर है। नील नदी की लम्बाई 6650 किलोमीटर है। यही मिस्र और सूडान का प्राथमिक जल स्रोत है।

अफ्रीका महाद्वीप की सबसे बड़ी झील

अफ्रीका की सबसे बड़ी झील “ विक्टोरिया झील ”, दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी झील है। इतना ही नहीं ताजे पानी की यह दूसरी सबसे बड़ी झील है। झील का नाम खोजकर्ता जॉन हैनिंग स्पेक द्वारा “ रानी विक्टोरिया ” के नाम पर रखा गया था। मध्य अफ्रीका में स्थित इस झील के बहने का कोई बाहरी रास्ता नहीं है। इसका पानी बस वाष्पीकरण के जरिये ही बाहर जा सकता है। इसका क्षेत्रफल 68,870 वर्ग किलोमीटर है। 2,424 घन किलोमीटर आयतन के साथ मात्रा के संदर्भ में, विक्टोरिया झील दुनिया की नौवीं सबसे बड़ी महाद्वीपीय झील है।

इस झील की तटरेखा 7,142 किमी है। विक्टोरिया विक्टोरिया को प्रत्यक्ष वर्षा से 80 प्रतिशत पानी प्राप्त होता है।

अफ्रीका का सबसे बड़ा मरुस्थल

सहारा विश्व का विशालतम गर्म मरुस्‍थल है। सहारा नाम रेगिस्तान के लिए अरबी शब्द सहरा  से लिया गया है जिसका अर्थ है। यह अफ़्रीका के उत्तरी भाग में अटलांटिक महासागर से लाल सागर तक 5,600 किलोमीटर की लम्बाई तक सूडान के उत्तर तथा एटलस पर्वत के दक्षिण 1,300 किलोमीटर की चौड़ाई में फैला हुआ है।

इसमे भूमध्य सागर के कुछ तटीय इलाके भी शामिल हैं। 9 मिलियन वर्ग किलोमीटर बड़ा यह मरुस्थल अफ्रीका के 31% के बराबर हिस्से को कवर करता है। क्षेत्रफल में यह यूरोप के लगभग बराबर एवं भारत के क्षेत्रफल के दूने से अधिक है। दिन में यहाँ का तापमान औसतन  38 से 40 डिग्री सेल्सियस रहता है और भयंकर गर्मी पड़ती है। अगर बात की जाए रात के तापमान की तो वो औसतन 13 से 20 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है। रात को तो तापमान शून्य से भी नीचे चला जाता है। इसका क्षेत्रफल 9,200,000 वर्ग किलोमीटर है।

अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी

अफ्रीका में सबसे ऊँची जगह है किलिमंजारो पर्वत ( Mount Kilimanjaro ) की चोटी है। अपने तीन ज्वालामुखीय शंकु, किबो, मवेन्ज़ी, और शिरा के साथ तंजानिया में स्थित इस पहाड़ की ऊंचाई 5,895 मीटर है। किलिमंजारो पर्वत दुनिया का सबसे ऊंचा मुक्त-खड़ा  पर्वत है और साथ ही साथ विश्व का चौथा सबसे उभरा पर्वत है। लगभग 50,000 लोग हर साल इस पर्वत पर चढ़ने के प्रयास करते हैं जिनमें से 65% लोग ही सफल होते हैं।

अफ्रीका की सबसे नीची जगह

जिबूती ( Djibouti ) में स्थित लेक असाल ( Lake Assal ) एक खारी झील है जो अफार त्रिकोण में समुद्र तल से 155 मीटर (509 फीट) नीचे है। अफ्रीका में भूमि का सबसे निचला बिंदु और पृथ्वी पर तीसरा सबसे निचला बिंदु है। ज्यादा वाष्पीकरण होने के कारण, इसका जल समुद्र के जल से 10 गुना ज्यादा खारा है। खारेपन में यह झील विश्व में तीसरे स्थान पर है।

अफ्रीका की सबसे ठंडी जगह

दक्षिण अफ्रीका में स्थित सदरलैंड ( Sutherland ) अफ्रीका में सबसे ठंडी जगह माना गया है। यहाँ का कम से कम सालाना औसतन तापमान 2.8 डिग्री सेल्सियस है। अगर साधारण तापमान की बात की जाए तो यहाँ का सालाना औसतन तापमान 11 डिग्री सेल्सियस है।

सदरलैंड में दर्ज सबसे ठंडा तापमान 12 जुलाई 2003 को 16.4 सेल्सियस था।

अफ्रीका का सबसे गर्म स्थान

अफ्रीका का सबसे गर्म स्थान

डेथ वैली

यूँ तो अफ्रीका में सबसे गरम जगह डेथ वैली को माना जाता है। विश्व मौसम संगठन (WMO) के अनुसार पृथ्वी पर उच्चतम पंजीकृत हवा का तापमान डेथ वैली में 56.7 डिग्री सेल्सियस था।

लेकिन इस रिकॉर्ड की वैधता को तब से चुनौती दी जा रही है, जब से इसके तापमान में संभावित समस्याओं का पता चला है। डॉ. अर्नोल्ड कोर्ट द्वारा इनमें से एक समस्या को 1949 की शुरुआत में नोट किया गया था, जिस से वह इस नतीजे पर पहुंचे थे कि तापमान उस समय आए रेतीले तूफ़ान का परिणाम हो सकता है।

पृथ्वी पर उच्चतम आधिकारिक तापमान 57.8 डिग्री सेल्सियस था, जिसे 13 सितंबर 1922 को अज़ीज़िया, लीबिया में विश्व मौसम संगठन (WMO) द्वारा पंजीकृत किया गया था।

अफ्रीका का सबसे बड़ा द्वीप

मेडागास्कर ( Madagascar ) अफ्रीका महाद्वीप का सबसे बड़ा द्वीप है। हिन्द महासागर में दुनिया का चौथा सबसे बड़ा यह द्वीप एक देश है। इसका कुल क्षेत्रफल 587,040 वर्ग किलोमीटर है। संसार का यह दूसरा सबसे बड़ा द्वीप देश है।


तो ये थी अफ्रीका महाद्वीप के बारे में कुछ जानकरी। अगर आपको लगता है कि इसमें कोई और जानाकरी भी होनी चाहिए या फिर आपके मन में है कोई सवाल तो बिना किसी देरी के कमेंट बॉक्स में लिखें। हम आपके सवालों का जवाब देने का हर संभव प्रयास करेंगे।

पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग पर ये रोचक जानकारियां :-

धन्यवाद।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More